3 नुस्खे बच्चों की आँखों की रौशनी को तेज करने के
Health HindiMe Internet World

3 नुस्खे बच्चों की आँखों की रौशनी को तेज करने के

3 नुस्खे बच्चों की आँखों की रौशनी को तेज करने के

  • जनम के बाद, बच्चों की आँखों की रौशनी की जांच अवश्य करवानी चाहिए|
  • जन्म से 4 महीने के लिए बच्चो के कमरे में रोशनी रखें।
  • बच्चों को इलेक्ट्रॉनिक गैजेट से दूर रखें।
  • बच्चो को आंखें और हाथ का तालेल बिठाना सिखाये|

आंखें अमूल्य हैं, उनके बिना दुनिया अपूर्ण है। इसलिए, उन्हें उनकी देखभाल में लापरवाही नहीं रखना चाहिए। बच्चों की आंखों को विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। और उन्हें समय के साथ जांच करवाते रहना चाहिए।

ऐसा इसलिए है क्योंकि आजकल के युग में अधिक टेलीविजन देखने और गैजेट्स के कारण उनकी आंखें कमजोर हो रही हैं और उन्हें ठीक से देखने में समस्या हो रही है। आप कुछ चीजों पर ध्यान रखकर आसानी से अपने बच्चे की आँखों की रौशनी बढ़ा सकते हैं।

घर बैठे कमाने के 8 तरीके – Make Money From Home

खतरे में है आपकी नौकरी, जानिए इन 7 संकेतो से

नियमित रूप से जांच करवाए

बच्चों में आंखों या नज़र से संबंधित किसी भी बड़ी समस्या न होने के बावजूद भी उनकी आँखों की नियमित रूप से जांच करवानी चाहिए। माता-पिता को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि बच्चे की दृष्टि ठीक से विकसित हो रही है या नहीं। बच्चों की दृष्टि में खराबी के कई कारण हो सकते हैं।

ऐसी स्थिति में, माता-पिता को निश्चित रूप से बच्चों में आंख से संबंधित समस्याओं को देखना चाहिए। यदि कोई संदेह है तो डॉक्टर से परामर्श लें।

जन्म से 4 महीने तक

बच्चे के जन्म के 4 महीने बाद बच्चे के कमरे में प्रकाश कम रखना चाहिए। चमकदार रोशनी सीधे बच्चे की आंखों में जाने का उनके लिए ठीक नहीं है। माता-पिता को विशेष रूप से इस पर ध्यान देना चाहिए।

आप बच्चे के बिस्तर की दिशा भी बदल सकते हैं, इससे हर बार उसकी दृष्टि बदल जाएगी। बच्चों को मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक खिलौनों से दूर रखें ताकि उनकी आँखे सुरक्षित रह सके। इसके अलावा, जब आप बच्चे को खाना खिला रहे हो तो बात करते वक़्त चलते रहने चाहिए।

इससे आपका बच्चा आपको आपकी आवाज सुनकर आपको ढूंढेगा, जो के उसकी आँखों के लिए तो अच्छा है ही साथ में सुनने की क्षमता भी बढाता है.

एंग्जायटी डिसऑर्डर लक्षण प्रकार और बचाव

TamilRockers  2020

5 से 8 महीने के बच्चे

जब बच्चे बढ़ने लगते हैं, तो गलत आदतों को अपनाने से (जैसे के टीवी या कंप्यूटर देखना) उनकी रोशनी कमजोर हो सकती है। 5 महीने तक के बच्चों के पालने पर खिलौनों को लटका देना अच्छा विचार हो सकता है।

यह उनका ख्याल रखेगा और उनका ध्यान बांटता रहेगा। वे एक साथ हाथ और आँखों में तालमेल बनाना भी सीखेगा। इसके साथ अगर हो सके तो बच्चे को आंगन में छोड़ दें ताकि वह चीजें देख सके और उन्हें छूने और पाने का प्रयास कर सकेगा। बच्चों को रंगीन ब्लॉक्स भी दे सकते है जिससे बच्चों की आँखों की रौशनी बढेंगी और आंखें विकसित भी होंगी|

नियमित रूप से बच्चे की आँखों की जांच करवाए, उसकी आंखों और सेहत के संबंध में अपने चिकित्सक से अवश्य परामर्श लें।

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

कोरोना वायरस से जुडी हर जानकारी – Coronavirus

7 नुस्खे दांतों को स्वस्थ रखने के लिये

Whatsapp Ke 20 Prernadayak Status | व्हाट्सएप्प के 20 प्रेरणादायक स्टेटस्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *