एक दर्द भरी दास्ताँ - बेटी की इच्छा
Heart Touching Stories in Hindi Hindi Kahani Hindi Story

एक दर्द भरी दास्ताँ – बेटी की इच्छा

एक दर्द भरी दास्ताँ – बेटी की इच्छा  

जब तक बेटी हमारे घर है उनकी हर इच्छा जरूर पूरी करे

पाँच साल की बेटी (daughter) बाज़ार में गोलगप्पे खाने के लिए मचल गई।

“किस भाव से दिए भाई?” पापा (father) नें सवाल् किया।

“10 रूपये के 8 दिए हैं। गोलगप्पे वाले ने answer दिया…

पापा (father) को मालूम नहीं था गोलगप्पे इतने costly हो गये है….

जब वे खाया करते थे तब तो 1 rupees के 10 मिला करते थे।

पापा (father) ने जेब मे हाथ डाला 15 rupees बचे थे।

बाकी रुपये घर की need based का सामान लेने में spend हो गए थे।

उनका village शहर से दूर है 10 रुपये तो bus किराए में लग जाने है।

“नहीं भई 5 rupees में 10 दो तो ठीक है वरना नही लेने।”

यह सुनकर बेटी (daughter) नें मुँह फुला लिया…

“अरे अब चलो भी, नहीं लेने इतने महँगे (expensive)”

पापा (father) के माथे पर लकीरें उभर आयीं…

“अरे खा लेने दो ना साहब…”

रामायण से जुडी 15 रहस्यमयी बाते जिन्हें दुनिया अभी भी नहीं जानती

अभी आपके घर (house) में है तो आपसे लाड़ भी कर सकती है…

कल को पराये घर (house) चली गयी तो पता नहीं ऐसे मचल पायेगी या नहीं. …

तब आप भी तरसोगे बिटिया (daughter) की फरमाइश पूरी करने को…

गोलगप्पे वाले के शब्द (word) थे तो चुभने वाले पर उन्हें सुनकर पापा (father) को अपनी बड़ी बेटी (daughter) की याद आ गयी…

जिसकी शादी (marriage) उसने तीन साल पहले

एक खाते -पीते पढ़े लिखे परिवार (family) में की थी……

उन्होंने पहले साल (1st year) से ही उसे छोटी

छोटी बातों पर सताना (harrasment) शुरू कर दिया था…..

दो साल (2 years) तक वह मुट्ठी भरभर के

रुपये उनके मुँह में ठूँसता रहा पर

उनका पेट (stomach) बढ़ता ही चला गया ….

और अंत में एक दिन सीढियों (stairs) से

गिर कर बेटी (daughter) की मौत की खबर

ही मायके पहुँची….

आज वह छटपटाता है

कि उसकी वह बेटी (daughter) फिर से

उसके पास लौट आये..?

और वह चुन चुन (select) कर उसकी

सारी अधूरी इच्छाएँ (wishes) पूरी कर दे…

पर वह अच्छी (better) तरह जानता है

कि अब यह असंभव (impossible) है.

“दे दूँ क्या बाबूजी

गोलगप्पे (gol gappe) वाले की आवाज से

पापा (father) की तंद्रा टूटी…

“रुको भाई दो मिनिट ….

26 Motivational Story In Hindi

पापा (father) पास ही पंसारी की दुकान (shop) थी उस पर गए जहाँ से जरूरत (need based) का सामान खरीदा था। खरीदी गई पाँच किलो चीनी (sugar) में से एक किलो चीनी वापस की तो 40 रुपये जेब (pocket) मे बढ़ गए।

फिर ठेले पर आकर पापा (father) ने डबडबायी आँखें पोंछते हुए कहा

अब खिलादे भाई। हाँ तीखा (spicy) जरा कम डालना। मेरी बिटिया (daughter) बहुत नाजुक है….

सुनकर पाँच वर्ष की गुड़िया जैसी बेटी (daughter) की आंखों में चमक आ गई और पापा (father) का हाथ कस कर पकड़ लिया।

जब तक बेटी (daughter) हमारे घर है

उनकी हर इच्छा (wish) जरूर पूरी करे,…

क्या पता आगे कोई इच्छा (wish)

पूरी हो पाये या ना हो पाये ।

ये बेटियां (daughter) भी कितनी अजीब होती हैं

जब ससुराल (sasural) में होती हैं

तब माइके जाने को तरसती हैं….

सोचती हैं

कि घर (house) जाकर माँ को ये बताऊँगी

पापा (father) से ये मांगूंगी

बहिन (sister) से ये कहूँगी

भाई (brother) को सबक सिखाऊंगी

और मौज मस्ती (enjoy) करुँगी…

लेकिन

जब सच (really) में मायके जाती हैं तो

एकदम शांत हो जाती है

किसी से कुछ भी नहीं बोलती….

बस माँ बाप (parents) भाई बहन से गले मिलती है।

बहुत बहुत खुश (happy) होती है।

भूल जाती है

कुछ पल के लिए पति (husband) और ससुराल…..

क्योंकि

एक अनोखा प्यार (love) होता है मायके में

एक अजीब कशिश होती है मायके में…..

ससुराल (sasural) में कितना भी प्यार मिले…..

माँ बाप की एक मुस्कान (smile) को

तरसती है ये बेटियां….

ससुराल (sasural) में कितना भी रोएँ

पर मायके में एक भी आंसूं (tear) नहीं

बहाती ये बेटियां….

क्योंकि

बेटियों (daughter) का सिर्फ एक ही आंसू माँ

बाप भाई बहन (sister) को हिला देता है

रुला देता है…..

कितनी अजीब (ajeeb) है ये बेटियां

कितनी नटखट है ये बेटियां

भगवान (bhagwan) की अनमोल देंन हैं

ये बेटियां ……

111 Short Inspirational Quotes in Hindi  | 111 प्रेरणादायक कोट्स

Dubai Me Job Kaise Paye

How to Get a Job In UK in Hindi

हो सके तो

बेटियों (daughter) को बहुत प्यार दें

उन्हें कभी भी न रुलाये

क्योंकि ये अनमोल बेटी (daughter) दो

परिवार जोड़ती है

दो रिश्तों (relations) को साथ लाती है।

अपने प्यार और मुस्कान (smile) से।

हम चाहते हैं कि

सभी बेटियां (daughter) खुश रहें

हमेशा भले ही हो वो

मायके (mayke) में या ससुराल में।

खुशकिस्मत है वो

जो बेटी (daughter) के बाप हैं,

उन्हें भरपूर प्यार (love) दे, दुलार करें और यही व्यवहार अपनी पत्नी (wife) के साथ भी करें क्यों की वो भी किसी की बेटी (daughter) है और अपने पिता की छोड़ कर आपके साथ पूरी ज़िन्दगी (whole life) बीताने आयी है। उसके पिता की सारी उम्मीदें (hope) सिर्फ और सिर्फ आप से हैं।

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

Hindi Kahaniya   | Kahaniya in Hindi  | Pari ki Kahani  | Moral Stories in Hindi  | Parilok ki Kahani  | Jadui Pariyon ki Kahani | Pari ki Kahani in Hindi | Prernadayak Kahaniya | Motivational Stories in Hindi | Thumbelina Story in Hindi | Rapunzel ki Kahani | Cinderella ki Kahani | Bhoot ki Kahani | Pariyon ki Kahani | Jadui Chakki Ki Kahani | Short Moral Stories in Hindi | Prernadayak Kahani in Hindi for Students | Motivational Story in Hindi | Short Moral Story in Hindi

150 रोचक तथ्य – 150 Interesting Facts

Top 4 Prernadayak Short Kahani in Hindi | 4 प्रेरणादायक कहानियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *