एक बहुत ही दर्दनाक दिल को दुख देने वाली कहानी - वो मनहूस लड़की – Heart Touching Story – That Obscene Girl
Heart Touching Stories in Hindi Hindi Kahani Hindi Story

एक बहुत ही दर्दनाक दिल को दुख देने वाली कहानी – वो मनहूस लड़की

एक बहुत ही दर्दनाक दिल को दुख देने वाली कहानी – वो मनहूस लड़की – Heart Touching Story – That Obscene Girl

दिल को दुख देने वाली कहानी

वो अठाइस साल (28 years) की बहुत ही बदसूरत और काली लड़की थी दाँत (Teeth) भी निकले थे

पर उसे अपने रंग (color) और बदसूरती का जरा भी अफ़सोस (guilty) नही था। हमेशा खुश रहती और एक नंबर की पेटू और पढ़ने लिखने में महाभोंदू (stupid n study) भी थी ।

पेटू होने की वजह से शरीर (body) भी बेडौल हो गया था। एक खूबी उसमें यह भी थी की जहाँ रहती हो हो हो कर हँसते मुस्कुराते (smiling) रहती और सबको भी हँसाते रहती।

दिल को दुख देने वाली कहानी

उस नेक दिल लड़की का एक शौक (habit) भी था, खाना बनाने का, खूब मन से खाना बनाती। बड़े चाव से मसाला पिसती। खाना बनाने की किताबे (reading cookery books) खूब ध्यान लगा कर पढ़ती । टीवी रेडियो पे भी पाक कला के प्रोग्राम को बड़े मनोयोग (listening from heart) से देखती सुनती,

उसे कोई भी खाना बनाना होता तो बड़े प्रेम (from heart) से बनती। आटा गूँथती ,बड़े प्यार से गीत गुनगुनाते हुए कम आँच पे पूरियाँ तलती। सब्जी चटनी खीर हो या मटर पनीर (mutter paneer) सब कुछ लाजबाब बनाती। जो भी उसके खाने को टेस्ट (taste) करता बिना तारीफ किये ना रहता। उसने पाक कला में अद्भुत और असाधारण प्रतिभा (talent) हासिल कर ली थी।

भारत में इन जॉब्स में है लाखों की सैलरी

काम और आपका स्वास्थ्य

पर वह मनहूस थी उसके काले रंग (dark complexion) और बदसूरत होने से कोई उसे प्यार न करता था पर माँ उसे बहुत प्यार (her mother loves her a lot) करती थी। आज तक माँ ने उसे डाँटा तक नही था और वह भी माँ (love her mother too) से बहुत प्यार करती थी।

हर बार की तरह आज सुबह भी उसकी शादी (marriage) के लिए जो लोग आये थे उन सबो ने खाने की बहुत तारीफ की लेकिन लड़की (girl) को देखकर नाक मुँह सिकोड़कर चले गए।

वह लड़की (girl) भी तैयार होकर किसी को बिना कुछ बताये कहीं चली गयी। शाम में जब वो लौटी तो घर का माहौल (atmosphere) बहुत गरम था।

पिता (father) जी माँ पे बहुत गुस्सा थे बोल रहे थे पता नही कौन से पाप के बदले ये मनहूस लड़की (girl) मिली। पिता से प्रायः यह सुब सुनती थी उससे उसे कोई असर (no affect) न होता था।

वह बहुत खुश खुश (laughing) माँ को कुछ बताने गई और कहा ” बड़ी भूख (hungry) लगी है कुछ खाने को दो पहले”

दिल को दुख देने वाली कहानी

उसके हाथों में एक सर्टिफिकेट (certificate) और एक चेक भी था, पर माँ भी आज बहुत गुस्से में सब्जी काट (cutting vegetables) रही थी उसके तरफ देखे बिना ही बोली “तू सचमुच मनहूस है काश पैदा लेते ही मर (die on the time of birth) जाती तो आज ये दिन ना देखना पड़ता। पचासों रिश्तों आये किसी ने तुझे पसंद (no one likes you) न किया “।

उस मनहूस लड़की को माँ (mother) से ऐसी आशा ना थी उसका दिल बैठ गया और उसकी ख़ुशी (smile) उड़ गई और उदास होकर माँ से बोली ” मैं सचमुच मनहूस हूँ माँ क्या मैं मर (die) जाऊँ?” बोलते बोलते उसका गला रुंध गया और चेहरा लाल (face turn red) हो गया।

माँ ने भी गुस्से (anger) में कहा “जा मर जा सबको चैन मिले”।

मनहूस लड़की ने अपने कमरे में जाकर दरवाजा बंद (close the door) कर लिया।

थोड़ी देर बाद जैसे ही माँ को अपनी गलती का अहसास (feel her mistake) हुआ वो दौड़ती हुई उसके कमरे के तरफ गयी। आवाज़ देने पर भी दरवाजा जब नही खुला तो माँ ने जोर का धक्का (she push the door) दिया।

तेज धक्के से जैसे ही दरवाज़ा खुला (door opens) माँ ने देखा सामने दुपट्टे के सहारे जीभ बाहर निकले उस मनहूस काली लड़की की लाश झूल (dead body was hanging) रही थी

वही पर एक चिट्ठी, सर्टिफिकेट (certificate) और एक लाख का चेक रखा था ।

चिट्ठी (letter) में लिखा था” माँ मैंने आज तक तुम्हारा कहना माना है आज तुमने मरने को बोला (tell to die) ये भी मान रही अब तुम मनहूस लड़की की माँ (mother) नही कहलाओगी।

Motivational Story Tortoise and Rabbit

SarkariResult.com क्या है?

ब्लैक फ्राइडे इतिहास और रोमांचक बातें | Black Friday History and Facts

दिल को दुख देने वाली कहानी

मैंने पढ़ने की बहुत कोशिश (try to read) की पर मेरे दिमाग मे कुछ जाता है नहीं, पर भगवान (god) ने मुझे ऐसा बनाया इसमें मेरा क्या कसूर। मुझे सबने काली मनहूस भोंदू (black stupid idiot) सब कहा मुझे बुरा न लगा पर तुम्हारे मुँह से सुनकर मुझे बहुत बुरा (really feel bad) लगा, मेरी प्यारी माँ और हां आज नेशनल लेवल (national level) के खाना बनाने वाली प्रतियोगिता में मुझे फर्स्ट प्राइज (first prize) और एक लाख रूपए का चेक मिला और साथ में फाइव स्टार होटल (five start hotel)  में मास्टर शेफ की नौकरी भी।

और पता है माँ आज मेरी जिंदगी की सबसे खुशी का दिन (happiest day of my life) था क्योंकि पहली बार वहाँ सबने मुझे कहा था देखो ये है कितनी (very lucky girl) भाग्यशाली लड़की.

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

Mahatma Gandhi ke 150 Anmol Vichar – महात्मा गांधी के 150 अनमोल विचार

Status of my Father – मेरे पापा की औकात

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *