मदर टेरेसा के 34 अनमोल विचार | 34 Mother Teresa Quotes In Hindi

मदर टेरेसा के 34 अनमोल विचार | 34 Mother Teresa Quotes In Hindi

  1. सबसे बड़ी बीमारी (Disease) कुष्ठ रोग या तपेदिक नहीं है, बल्कि अवांछित होना ही सबसे बड़ी बीमारी (Disease) है।
  1. जिस व्यक्ति (person) को कोई चाहने वाला न हो, कोई ख्याल रखने वाला न हो, जिसे हर कोई भूल चुका हो, मेरे विचार (thought) से वह किसी ऐसे व्यक्ति (person) की तुलना में जिसके पास कुछ खाने को न हो, कहीं बड़ी भूख (hunger), कहीं बड़ी गरीबी से ग्रस्त है।
  1. अगर आप यह देखेंगे कि लोग (people) कैसे हैं तो आप के पास उन्हें प्रेम (love) करने का समय नहीं मिलेगा।
  1. शांति की शुरुआत (start) मुस्कुराहट से होती है।
  1. जहाँ जाइए प्यार (love) फैलाइए। जो भी आपके पास आए वह और खुश (happy) होकर लौटे।
  1. प्रेम (love) की शुरुआत निकट लोगों और संबंधो की देखभाल और दायित्व से होती है, वो निकट संबंध (relation) जो आपके घर में हैं।
  1. पेड़, फूल और पौधे शांति में विकसित (develop) होते हैं, सितारे, सूर्य और चंद्रमा शांति से गतिमान रहते हैं, शांति (peace) हमें नई संभावनाएं देती है।
  1. सबसे बड़ा रोग (disease) किसी के लिए भी कुछ न होना है।
  1. बिना प्रेम (love) के कार्य करना दासता है।
  1. 1 अगर आप सौ लोगों (100 peoples) को नहीं खिला सकते तो एक को ही खिलाइए।
  1. एक जीवन (life) जो दूसरों के लिए नहीं जिया गया वह जीवन (life) नहीं है।
  1. हर वस्तु जो नहीं दी गई है खो (lost) चुकी है।
  1. हम सभी महान कार्य (great work) नहीं कर सकते लेकिन हम अन्य कार्यों को प्रेम (love) से कर सकते हैं।
  1. मैं एक छोटी पेंसिल के समान हूँ जो ईश्वर (bhagwan) के हाथ में है जो इस संसार को प्रेम (love) का संदेश भेज रहे हैं।
  1. हम सभी ईश्वर (bhagwan) के साथ में एक कलम के समान है।
  1. यह महत्वपूर्ण (important) नहीं है आपने कितना दिया, बल्कि यह है कि देते समय आपने कितने प्रेम (love) से दिया।
  1. मैं सफल (successful)ता (success) के लिए प्रार्थना नहीं करता मैं सच्चाई के लिए करता हूँ।
  1. प्रेम (love) हर ऋतू में मिलने वाले फल की तरह है जो हर (everyone) की पहुँच में है।
  1. किसी नेता की प्रतीक्षा (wait) मत करो, अकेले करो, व्यक्ति (person) से व्यक्ति (person) द्वारा।
  1. वे शब्द को ईश्वर (bhagwan) का प्रकाश नहीं देते अँधेरा फैलाते हैं।
  1. कार्य में प्रार्थना प्यार (love) है, कार्य में प्यार (love) सेवा है।
  1. खुबसूरत लोग (people) हमेशा अच्छे नहीं होते। लेकिन अच्छे लोग (people) हमेशा खूबसूरत होते हैं।
  1. दया और प्रेम (love) भरे शब्द छोटे हो सकते हैं लेकिन वास्तव में उनकी गूंज (wave) अनंत होती है।
  1. अकेलापन (lonliness) और किसी के द्वारा न चाहने की भावना का होना भयानक गरीबी (poor) के समान है।
  1. आप दुनिया (world) में प्रेम (love) फैलाने के लिए क्या कर सकते हैं? घर जाइए और अपने परिवार से प्रेम (love) कीजिए।
  1. कल जा चुका है, कल अभी आया नहीं (not) है, हमारे पास सिर्फ आज है, चलिए शुरुआत (start) करते हैं।
  1. चलिए (lets) जब भी एक-दूसरे से मिलें मुस्कान के साथ मिलें, यही प्रेम (love) की शुरुआत है।
  1. सिर्फ धन (money) देने भर से संतुष्ट न हों, धन (money) पर्याप्त नहीं है, वह पाया जा सकता है लेकिन उन्हें आपके प्रेम (love) की आवश्यकता है, तो जहाँ भी आप जाएँ अपना प्रेम (love) सबमें बांटें।
  1. प्रेम (love) एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में मिलता है और जिसे सभी पा सकते हैं।
  1. भगवान (bhagwan) यह अपेक्षा नहीं करते कि हम सफल (successful) हों। वे तो केवल इतना चाहते हैं कि हम प्रयास करें।
  1. कुछ लोग (people) अपनी जिंदगी में आशीर्वाद की तरह कुछ लोग (people) एक सबक की तरह।
  1. उनमें से हर कोई किसी-न-किसी भेष में भगवान (bhagwan) है।
  1. ईश्वर (bhagwan) हमसे यह अपेक्षा नहीं करते कि हम सफल (successful) हों। वे तो केवल इतना चाहते हैं कि हम प्रयास करें।
  1. आप स्दुनिया में प्रेम (love) फ़ैलाने के लिए क्या कर सकते हैं? घर जाइए और अपने परिवार से प्रेम (love) कीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *