विक्रम बेताल पच्चीसी - कौन सी राजकुमारी सबसे कोमल है?
Hindi Kahani Hindi Story HindiMe India News Internet Vikram Betal

विक्रम बेताल पच्चीसी – कौन सी राजकुमारी सबसे कोमल है?

विक्रम बेताल पच्चीसी – कौन सी राजकुमारी सबसे कोमल है?

विक्रम बेताल पच्चीसी

गौड़ देश में वर्धमान (vardhman) नामक एक नगर था, जिसमें गुणशेखर (gunshekhar) नाम का राजा राज करता था। उसके अभयचन्द्र नाम का दीवान था। उस दीवान के समझाने से राजा ने अपने राज्य में शिव और विष्णु की पूजा, गोदान, भूदान, पिण्डदान आदि सब बन्द कर दिये। नगर में डोंडी पिटवा दी कि जो कोई ये काम करेगा, उसका सबकुछ छीनकर उसे नगर से बाहर निकाल दिया जायेगा।

एक दिन दीवान ने कहा, “महाराज, अगर कोई किसी को दु:ख पहुँचाता है और उसके प्राण लेता है तो पाप से उसका जन्म-मरण नहीं छूटता। वह बार-बार जन्म लेता और मरता है। इससे मनुष्य का जन्म पाकर धर्म (dharam-religion) बढ़ाना चाहिए।

आदमी को हाथी (elephant) से लेकर चींटी (ant) तक सबकी रक्षा करनी चाहिए। जो लोग दूसरों के दु:ख को नहीं समझते और उन्हें सताते हैं, उनकी इस पृथ्वी (planet) पर उम्र घटती जाती है और वे लूले-लँगड़े, काने, बौने होकर जन्म लेते हैं।”

राजा ने कहा “ठीक है।” अब दीवान जैसे कहता, राजा वैसे ही करता। दैवयोग से एक दिन राजा मर गया। उसकी जगह उसका बेटा धर्मराज गद्दी पर बैठा। एक दिन उसने किसी बात पर नाराज होकर दीवान को नगर से बाहर निकलवा दिया। (विक्रम बेताल पच्चीसी)

Google में नौकरी कैसे पाए

विदेश में नौकरी कैसे पाए

कुछ दिन बाद, एक बार वसन्त ऋतु में वह इन्दुलेखा, तारावली और मृगांकवती, इन तीनों रानियों को लेकर बाग़ में गया। वहाँ जब उसने इन्दुलेखा (indulekha) के बाल पकड़े तो उसके कान में लगा हुआ कमल उसकी जाँघ पर गिर गया। कमल के गिरते ही उसकी जाँघ में घाव हो गया और वह बेहोश हो गयी। बहुत इलाज हुआ, तब वह ठीक हुई।

इसके बाद एक दिन की बात कि तारावली ऊपर खुले में सो रही थी। चांद निकला। जैसे ही उसकी चाँदनी तारावली के शरीर पर पड़ी, फफोले उठ आये। कई दिन के इलाज (medical treatment) के बाद उसे आराम हुआ। इसके बाद एक दिन किसी के घर में मूसलों से धान कूटने की आवाज हुई। सुनते ही मृगांकवती के हाथों में छाले पड़ गये। इलाज हुआ, तब जाकर ठीक हुए।

इतनी कथा सुनाकर बेताल ने विक्रम से पूछा, “महाराज, बताइए, उन तीनों में सबसे ज्यादा कोमल कौन थी?”

राजा ने कहा, “मृगांकवती, क्योंकि पहली दो के घाव और छाले कमल और चाँदनी के छूने से हुए थे। तीसरी ने मूसल को छुआ भी नहीं और छाले पड़ गये। वही सबसे अधिक सुकुमार हुई।”

राजा के इतना कहते थी के बेताल नौ-दो ग्यारह हो गया। राजा बेचारा फिर श्मशान में गया और जब वह बैताल को लेकर लेकर चला तो उसने विक्रम को एक और कहानी सुनायी।

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

15 Simple Tips to build confidence in kids

40 Motivational Quotes For Students in Hindi | स्टूडेंट्स के लिए 40 शक्तिशाली कोट्स

Shri Bajrang Baan Path in Hindi Lyrics

Maruti Stotra in Hindi Lyrics

Sai Baba ke 20 Prernadayak Anmol Vachan | साईं बाबा के 20 प्रेरणादायक अनमोल वचन

https://prernadayak.com/%e0%a4%ac%e0%a5%8d%e0%a4%b2%e0%a5%88%e0%a4%95-%e0%a4%ab%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%87%e0%a4%a1%e0%a5%87-black-friday-facts/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *