20 Anmol Prernadayak Vachan | 20 अनमोल प्रेरणादायक वचन

20 Anmol Prernadayak Vachan | 20 अनमोल प्रेरणादायक वचन

  1. एक मुँह (mouth) और दो कान का अर्थ है कि हम अगर एक बात बोलें (talk) तो कम से कम दो बात सुनें भी।
  1. छोटी-छोटी खुशियों (happiness) को पूरे मन से और जोश से मनाएं, इससे जीवन (life) में उत्साह बना रहता है।
  1. दिल (heart) बड़ा रखो, दिमाग ठंडा रखो, वाणी मीठी रखो। फिर कोई आपसे नाराज (angry) हो तो कहना…!!!
  1. ताकत (strength) के साथ नेक इरादे भी होना बहुत जरूरी है, वरना सोचो (think) ऐसा क्या था जो रावण हार गया?
  1. यह आवश्यक नहीं कि हर लड़ाई (fight) जीती ही जाए। आवश्यक तो यह है कि हर हार (learn from lose) से कुछ सीखा जाए।
  1. खुश (happy) रहना है तो अधिक ध्यान उस चीज पर दें, जो आपके (thing you have) पास है, उस पर नहीं जो आपके पास नहीं है।
  1. तुम दुनिया (world) में सबसे जीत सकते हो। सिवाय उस इंसान के, जो तुम्हारी खुशी (happiness) के लिए जानबूझकर हार जाता है।
  1. एक मिनट में जिन्दगी (life) नहीं बदलती। पर एक मिनट सोच कर लिया हुआ फैसला (decision) पूरी जिन्दगी बदल देता है।
  1. जिंदगी (life) को लेकर हमारी शिकायतें जितनी कम होती जायेंगी, हमारा जीवन (life) उतना ही बेहतर बनता जाएगा।
  1. अच्छे इंसान (good person) सिर्फ और सिर्फ अपने कर्म से पहचाने (known) जाते हैं। क्योंकि अच्छी बातें तो बुरे लोग (bad peoples) भी कर लेते है।
  1. जिस समय हम किसी का अपमान (insult) कर रहे होते हैं। दरअसल, उस समय हम अपना सम्मान (loosing respect) खो रहे होते है.. ।
  1. यदि कोई व्यक्ति आपको गुस्सा (anger) दिलाने में सफल होता है, तो ऐसा मान लें कि आप उसके हाथ (puppet of his hands) की कठपुतली हैं।
  1. यदि किसी भूल (by mistake) के कारण कल का दिन दु:ख में बीता है तो उसे याद कर आज का दिन व्यर्थ (don’t waste your today) में न बर्बाद करो।”
  1. मनुष्य सुबह से शाम (evening) तक काम करके उतना नहीं थकता, जितना क्रोध और चिंता (anger and stress) से एक क्षण में थक जाता है… ।
  1. कभी पीठ पीछे आपकी बात चले तो घबराना (afraid) नहीं, क्योंकि बात तो उन्ही की होती है.. जिनमें वाकई (in real) कोई बात होती है।
  1. जब रिश्तों (relations) में झूठ बोलने की आवश्यकता महसूस (feel) होने लगे, तब समझ लेना चाहिए कि रिश्ता समाप्ति (finishes) की ओर है।
  1. इंसान को बोलना (talk) सीखने में तीन साल लग जाते हैं… लेकिन क्या बोलना है? ये सीखने में पूरी जिदंगी (whole life) लग जाती है।
  1. जिंदगी में अच्छे लोगों (good people) की तलाश मत करो, खुद अच्छे (good) बन जाओ, आपसे मिलकर शायद किसी की तलाश (search) पूरी हो जाए।
  1. जो शक्ति (power) न होते हुए भी मन से हार नहीं मानता है। उसको दुनिया (world) की कोई ताकत परास्त (beat) नहीं कर सकती।
  1. हमेशा छोटी-छोटी गलतियों (small mistakes) से बचने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि इन्सान पहाड़ों से नहीं पत्थरों (stones) से ही ठोकर खाता है ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *