3 Motivational Stories in Hindi – 3 प्रेरणादायक कहानियां
Hindi Kahani Hindi Story

3 Motivational Stories in Hindi – 3 प्रेरणादायक कहानियां

3 Motivational Stories in Hindi – 3 प्रेरणादायक कहानियां

3 Motivational Stories in Hindi

हाथी और रस्सी की कहानी – Elephant Rope Story

क्या आपको पता है, जब हाथी का बच्चा (baby elephant) छोटा होता है तो उसे पतली एंव कमजोर रस्सी (rope) से बांधा जाता है| हाथी का बच्चा (baby elephant) छोटा एंव कमजोर होने के कारण उस रस्सी (rope) को तोड़कर भाग नहीं सकता|

लेकिन जब वही हाथी का बच्चा (baby elephant) बड़ा और शक्तिशाली हो जाता है तो भी उसे पतली एंव कमजोर रस्सी (rope) से ही बाँधा जाता है, जिसे वह आसानी से तोड़ सकता है लेकिन वह उस रस्सी (rope) को तोड़ता नहीं है और बंधा रहता है| ऐसा क्यों होता है? (3 Motivational Stories in Hindi)

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब हाथी का बच्चा (baby elephant) छोटा होता है तो वह बार-बार रस्सी (rope) को छुड़ाकर भागने की कोशिश करता है, लेकिन वह कमजोर होने के कारण उस पतली रस्सी (rope) को तोड़ नहीं सकता और आखिरकर यह मान लेता है कि वह कभी भी उस रस्सी (rope) को तोड़ नहीं सकता|

हाथी का बच्चा (baby elephant) बड़ा हो जाने पर भी यही समझता है कि वह उस रस्सी (rope) को तोड़ नहीं सकता और वह कोशिश ही नहीं करता|

इस प्रकार वह अपनी गलत मान्यता अथवा गलत धारणा (Wrong Beliefs) के कारण एक छोटी सी रस्सी (rope) से बंधा रहता है जबकि वह world (world) के सबसे ताकतवर जानवरों में से एक है|

शेर और चतुर खरगोश की कहानी – Lion and Rabit Story in Hindi

Lion and Rabbit Storyकिसी जंगल (jungle) में एक शेर (tiger) रहता था| वह हमेशा जंगल (jungle) में रहने वाले जानवरों को मारकर खा जाता था| इस कारण जंगल (jungle) के सभी जीव जंतुओं को शेर (tiger) से बहुत डर लगता था|

एक बार सभी जानवरों ने मिलकर शेर (tiger) के साथ समझौता कर लिया कि रोजाना एक पशु शेर (tiger) के भोजन के लिए स्वयं उसके पास चला आएगा| शेर (tiger) यह बात मान गया| उस दिन से रोज एक जानवर अपनी बारी से शेर (tiger) के पास पहुंच जाता और दूसरे जानवर बिना डर के जंगल (jungle) में घूमते|

एक बार खरगोश की बारी आई| वह धीरे-धीरे शेर (tiger) के पास जा ही रहा था कि अचानक रास्ते में उसे एक तरकीब सूझी| वह बहुत देर करके शेर (tiger) के पास पहुंचा| शेर (tiger) भूखा होने के कारण बेचैन अपनी गुफा (cave) के बाहर चक्कर लगा रहा था|

खरगोश को देखते ही शेर (tiger) गरजा और बोला:-” अरे खरगोश! तुम इतनी देर से क्यों आए हो? भूख से मेरी जान निकली जा रही है|”

खरगोश बोला:-” महाराज (Maharaj)! क्या बताऊं, हम पांच भाई आपकी सेवा के लिए आ ही रहे थे, परंतु रास्ते में एक दूसरा शेर (tiger) मिल गया| वह बोला कि वह जंगल (jungle) का राजा (king) है| (3 Motivational Stories in Hindi)

उसने हम पर हमला कर दिया और मेरे भाइयों को खा गया| महाराज (Maharaj), मैं किसी तरह अपनी जान बचाकर आपको यह संदेश देने पहुंचा हूं|”

यह बात सुनकर शेर (tiger) बहुत क्रोधित हुआ और बोला:-“कहां है वह दुष्ट, जो अपने आप को राजा (king) बता रहा है| मुझे दिखाओ, मैं अभी उसका काम तमाम करता हूं|”

खरगोश, शेर (tiger) को कुएं के पास ले गया| जब शेर (tiger) ने कुएं में झांका तो उसे अपनी ही परछाई दिखाई दी| उसे दूसरा शेर (tiger) समझ कर वह जोर से गरजा और क्रोधित होकर उस कुएं के अंदर छलांग लगा दी| परंतु उस कुँए के अंदर कोई दूसरा शेर (tiger) था ही नहीं| वहां तो केवल जल ही जल था|

बाहर निकलने का कोई रास्ता भी नहीं था| शेर (tiger) बहुत देर तक पानी के अंदर ही छटपटाता रहा और डूब कर वहीं मर गया| इस प्रकार नन्हे खरगोश (rabbit) ने अपनी चतुराई से अपनी तथा अन्य साथियों की जान बचाई|

सीख:- Lesson

बुद्धि और विवेक के बल पर कोई भी कार्य possible है|

Success Story in Hindi | एक अंधे की सफलता की कहानी

एक गांव में Rahul नाम का एक लड़का रहता था जो जीवन में हार मान चुका था| वह life में जो कुछ भी करता था, उसको अपनी हार पहले से

ही नजर आती थी| स्कूल (school) में अध्यापक और अन्य विद्यार्थी भी उसकी मजाक उड़ाते थे| वह अंधेरे कमरे में अक्सर रोता रहता था|

एक दिन उसकी सिसकती हुई आवाज को सुनकर एक अंधा आदमी (blind man) उसके पास आया और पूछा, ‘तुम क्यों रो रहे हो’|

Rahul ने उस आदमी को सारी बात बताई|

यह सुनकर वह आदमी जोर-जोर से हंसा (laugh) और बोला, तुम्हें पता है, ‘जब मैं पैदा हुआ और लोगों ने देखा कि इस बच्चे की तो आंखें ही नहीं है, तो उन्होंने मेरे माता-पिता (parents) को मुझे मार देने की सलाह दी’|

उन लोगों ने मेरे माता-पिता को कहा की यह तो अंधा है| यह जीवन भर तड़पता रहेगा,  इसलिए इसे मार देना ही अच्छा होगा| लेकिन मेरे माता-पिता ने उन लोगों की सलाह नहीं मानी| उन्होंने मुझे एक विशेष स्कूल (school) में भेजा और  मुझे पढ़ाया-लिखाया| जब मैं कॉलेज (college) में admission लेने गया तो कॉलेज (college) प्रशासन ने मेरा admission करने से मना कर दिया| (3 Motivational Stories in Hindi)

फिर मैंने विदेशी विश्वविद्यालय (foreign university) का फॉर्म भरा और MIT की स्कॉलरशिप पर graduation और post graduation की डिग्री ली| लेकिन जब मैं वापस आया तो फिर मुझे महसूस हुआ कि नेत्रहीन (blind) होने के कारण मुझे कोई नौकरी (job) नहीं देना चाहता| फिर मैंने अपनी company

शुरू की| इसलिए नहीं कि मेरे पास बहुत पैसा था यह मेरे पास कोई अनोखा आईडिया था| मैंने company इसलिए शुरू की क्योंकि मेरे पास और कोई चारा ही नहीं था| लेकिन आज मुझे खुशी है कि आज मैं अपनी company के जरिए मेरे जैसे 5000 लोगों को नौकरी (job) दे पाया हूं|

जीवन में जीत और हार आपकी सोच पर ही निर्भर करती है,

मान लो तो हार है और ठान लो तो जीत (win) है|

 आदमी की बात को सुनकर Rahul ने पूछा आप की कहानी से मेरा क्या वास्ता?

वह आदमी बोला, जैसे आज लोग तुम्हारी हंसी उड़ाते हैं, वैसे ही जिंदगी (life) भर लोगों ने मेरी भी निंदा की, मेरा भी मजाक उड़ाया|

लेकिन मैंने खुद को कभी कमजोर नहीं समझा| जब world (world) मुझे नीची नजरों से देखती थी और यह कहती थी कि तुम जिंदगी (life) में कुछ नहीं कर सकते|

तब मैं उनकी आंखों में आंखें डाल कर बोलता था कि मैं कुछ भी (I can do anything) कर सकता हूं| जैसे मैंने इतना सब कुछ किया वैसे ही तुम भी बहुत कुछ कर सकते

हो| इसलिए हिम्मत मत हारो| world (world) क्या कहती है, इस बात की परवाह मत करो| (3 Motivational Stories in Hindi)

सीख:- Lesson

World आपको कैसे देखती है यह महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन आप खुद को

कैसे देखते हैं, यह सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

Hindi Kahaniya   | Kahaniya in Hindi  | Pari ki Kahani  | Moral Stories in Hindi  | Parilok ki Kahani  | Jadui Pariyon ki Kahani | Pari ki Kahani in Hindi | Prernadayak Kahaniya Stories in Hindi | Thumbelina Story in Hindi | Rapunzel ki Kahani | Cinderella ki Kahani | Bhoot ki Kahani | Pariyon ki Kahani | Jadui Chakki Ki Kahani | Short Moral Stories in Hindi | Prernadayak Kahani in Hindi for Students | Short Moral Story in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *