महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन की जीवनी | Albert Einstein Biography In Hindi
Biography in Hindi HindiMe India News Internet

महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन की जीवनी | Albert Einstein Biography In Hindi

महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन की जीवनी | Albert Einstein Biography In Hindi

World में बहुत बड़े – बड़े वैज्ञानिक (scientist) हुए है लेकिन उन सब अल्बर्ट आइन्स्टीन (Albert Einstein) को हमेशा टॉप में रखा जाता है. अल्बर्ट आइन्स्टीन (Albert Einstein) एक सैद्धांतिक भौतिकविद थे.

वे सापेक्षता के सिद्धांत और द्रव्यमान उर्जा समीकरण E=mc2 के लिये जाने जाते हैं. अल्बर्ट आइन्स्टीन (Albert Einstein) को उनके प्रकाश उर्जा उत्सर्जन की खोज (find)  करने के लिये सन 1921 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित (honored) किया गया था.

अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) विश्व (world) के जाने माने वैज्ञानिक (scientist) और थ्योरिटीकल भौतिकशास्त्री है. इन्होंने साधारण रिलेटिविटी की थ्योरी को विकसित (developed) किया.

विज्ञान के दर्शन शास्त्र को प्रभावित करने के लिए भी इनका नाम प्रसिद्ध है. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) का विश्व (world) में सबसे ज्यादा नाम द्रव्यमान – ऊर्जा के समीकरण सूत्र E=MC square के लिए है, यह विश्व (world) का बहुत ही प्रसिद्ध समीकरण है.

अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) ने अपने जीवन में बहुत से अविष्कार (invention) किये, कुछ अविष्कारों के लिए आइंस्टीन (Einstein) का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया. वे एक सफल और बहुत ही बुद्धिमानी वैज्ञानिक (scientist) थे. आधुनिक समय में भौतिकी (physics) को सरल बनाने में इनका बहुत बड़ा योगदान (contribution) रहा है.

सन 1921 में अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) को उनके अविष्कारों के लिए नोबल पुरस्कार (nobel prize) से नवाजा गया. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) ने कड़ी मेहनत कर यह मुकाम हासिल किया. इनको गणित में भी बहुत रूचि थी.

इन्होंने भौतिकी (physics) को सरल तरीके से समझाने के लिए बहुत से अविष्कार (invention) किये जोकि लोगों के लिए प्रेरणादायक (prernadayak) है.

आइन्स्टीन (Einstein) ने लगभग 300 से भी अधिक वैज्ञानिक (scientist) शोध पत्रों का प्रकाशन किया हैं. आइन्स्टीन (Einstein)के बौद्धिक उपलब्धियों और अपूर्वता ने आइन्स्टीन (Einstein) वर्ड्स को बुद्धिमान का पर्याय बना दिया हैं.

Baba Ramdev Biography and Quotes in Hindi

अल्बर्ट आइन्स्टीन –  Albert Einstein

  • पूरा नाम – Full name – अल्बर्ट हेमर्न आइन्स्टीन
  • जन्म – Birth – 14 मार्च 1879, उल्मा, जर्मनी
  • मृत्यु – Death – 18 अप्रैल 1955, न्यू जर्सी, अमेरिका (America)
  • पिता का नाम – Father’s Name –  हेमर्न आइन्स्टीन
  • माता का नाम – Mother’s Name – पौलिन कोच
  • निवास – Residence – जर्मनी, इटली, आस्ट्रिया और अमेरिका (America)
  • नागरिकता – Citizenship – जर्मनी, बेल्जियम और अमेरिका (America)
  • विवाह – Marriage – दो बार, पहली – मरिअक के साथ और दूसरी – एलिसा लोवेन के साथ
  • बच्चें – Children’s – कदमूनी मार्गेट (दत्तक पुत्री)
  • जाति – Religion – यहूदी
  • क्षेत्र – Field – भौतिकी (physics) दर्शन
  • शिक्षा – Education – ई. टी. एच. और ज्यूरिख विश्व (world)विद्यालय से
  • डॉक्टरी सलाहकार – Medical Councilor– अल्फ्रेड क्लेनर
  • शिष्य – Student – अनस्ट और नाथोंन रोसेन
  • ख्याति – Famous for – प्रकाश उर्जा प्रभाव, द्रव्यमान उर्जा समतुल्यता और बोस आइन्स्टीन आकंड़े
  • सम्मान – Prize – भौतिकी (physics) नोबेल पुरस्कार (1921), कोप्ले पदक, मैक्स पैलांक पदक, शताब्दी के महान पुरस्कार (1999)

Aadhar Card Virtual ID क्या है?

रामायण के 17 रहस्य जो आपको अभी तक नहीं पता थे

अल्बर्ट आइंस्टीन के रोचक तथ्य Albert Einstein Interesting Facts in Hindi

  1. Albert Einstein (अल्बर्ट आइंस्टीन) अपने आप को संशयवादी कहते थे, वे खुद को नास्तिक नहीं कहते थे.
  2. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) अपने दिमाग में ही सारे प्रयोग का हल निकाल लेते थे.
  3. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) बचपन में पढाई में और बोलने में कमजोर (weak) हुआ करते थे.
  4. Albert Einstein (अल्बर्ट आइंस्टीन) की मृत्यु के बाद एक वैज्ञानिक (scientist) ने उनके दिमाग को चुरा लिया था, फिर वह 20 साल तक एक जार (jar) में बंद था.
  5. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) को नॉबल पुरस्कार भी मिला किन्तु उसकी राशि (prize money) उन्हें नही मिल पाई.
  6. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) को राष्ट्रपति के पद के लिए भी अवसर मिला.
  7. Albert Einstein (अल्बर्ट आइंस्टीन) युनिवर्सिटी की दाखिले की परी (pari)क्षा में फेल भी हो चुके है.
  8. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) की याददाश बहुत ख़राब होने के कारण, उनको किसी का नाम, नम्बर याद (remember) नही रहता था.
  9. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) की आँखे एक सुरक्षित डिब्बे में रखी हुई है.
  10. Albert Einstein (अल्बर्ट आइंस्टीन) के पास खुद की गाड़ी (vehicle) नही थी, इसलिए उनको गाड़ी (vehicle) चलाना भी नहीं आता था.
  11. अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) का एक गुरुमंत्र था “अभ्यास ही सफलता का मूलमंत्र है”.

Sandeep Maheshwari Biography and Quotes in Hindi

अल्बर्ट आइंस्टीन का आरंभिक जीवन :  Early life of Albert Einstein

Albert Einstein का जन्म 14 मार्च 1879 में जर्मनी में वुतटेमबर्ग के यहूदी परिवार (family) में हुआ। उनके पिता हरमन आइंस्टीन (Einstein) एक इंजिनियर और सेल्समन थे जबकि उनकी माता पोलिन आइंस्टीन (Einstein) थी।

1880 में, उनका परिवार (family) म्यूनिख शहर चला गया जहा उनके पिता और चाचा ने Elektrotechnische Fabrik J. Einstein & Co. नामक company खोली। कंपनी बिजली के उपकरण बनाती थी और इसने Munich के Oktoberfest मेले में पहली बार रौशनी का इंतजाम भी किया था।

American President Donald Trump Biography and Quotes in Hindi

Albert Einstein परिवार (family) यहूदी धार्मिक परम्पराओ को नहीं मानता था और इसीलिए आइंस्टीन कैथोलिक विद्यालय (school) में पढने के लिए गये। लेकिन बाद में 8 साल की उम्र में वे वहा से स्थानांतरित (moved) होकर लुइटपोल्ड जिम्नेजियम (जिसे आज अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) जिम्नेजियम के नाम से जाना जाता है) गये, जहा उन्होंने माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा (education) ग्रहण की, वे वहा अगले 7 सालो तक रहे, जब तक उन्होंने जर्मनी (Germany) नहीं छोड़ी।

1895 में Einstein ने 16 साल की उम्र में स्विस फ़ेडरल पॉलिटेक्निक, जुरिच (Zurich) की एंट्रेंस परीक्षा दी, जो बाद में Edigenossische Technische Hochschule (ETH) के नाम से जानी जाती थी। भौतिकी (physics) और गणित के subject को छोड़कर बाकी दुसरे विषयो में वे पर्याप्त मार्क्स पाने में unsuccessful हुए।

और अंत में पॉलिटेक्निक (polytechnic) के प्रधानाध्यापक की सलाह पर वे आर्गोवियन कैनटोनल स्कूल, आरु, स्विट्ज़रलैंड (Switzerland) गये। 1895-96 में अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा उन्होंने वही से complete की।

अल्बर्ट आइन्स्टीन का व्यक्तिगत जीवन : Personal Life of Albert Einstein

आइन्स्टीन (Einstein) एक भावुक, प्रतिब्रध और जातिवाद विरोधी थें. अल्बर्ट आइन्स्टीन (Albert Einstein) प्रिंसटन नेशनल एसोसिएशन ऑफ द एडवांसमेंट ऑफ कलर्ड पीपल संस्था के member भी रहे थें.

जहाँ से Albert ने अफ्रीकी अमेरिकीयों के नागरिक अधिकारों के लिये ” सबसे खराब बीमार ” मानते थे. वें citizen अधिकार कार्यकर्ता W.E.B.DO BOIS के साथ जुड़ गये थें.

1946 के समय Albert ने पेन्सिल्वेनिया में लिंकन विश्व (world)विद्यालय का भी दौरा किया था. यह विश्वविद्यालय (university) एक अश्वेत महाविद्यालय हैं. वहां उन्हें एक मानद उपाधि से भी सम्मानित (honored) किया गया था.

आइन्स्टीन (Einstein) ने एक बार अपने भाषण (speech) में कहा था उनका कहना था कि ” मेरा इसके बारें में चुप (quite) रहने का कोई इरादा नहीं हैं ” प्रिंसटन के एक निवासी याद (memorize) करते हैं कि आइन्स्टीन ने कभी काले छात्रों (black students) के लिये कॉलेज (college) की शिक्षा में शुल्क का भुगतान भी किया था.

Charlie Chaplin Biography and Quotes in Hindi

अल्बर्ट आइंस्टीन का वैज्ञानिक समय और कार्य : Albert Einstein Work’s

अल्बर्ट आइन्स्टीन (Albert Einstein) ने अपने पुरे जीवनकाल में सैकड़ो किताबें और पत्रों को प्रकाशित किया था. आइन्स्टीन ने 300 से भी अधिक वैज्ञानिक (scientist) और गैर वैज्ञानिक (scientist) शोध पत्रों को प्रकाशित किया.

वे खुद के काम के अलावा दुसरे वैज्ञानिकों (scientists) के साथ भी सहयोग करते थें. जिनमे बोस आइन्स्टीन के आकड़े आइन्स्टीन रेफ्रीजरेटर (refrigerator) और अन्य कई शामिल हैं.

Kobe Bryant Biography in Hindi

1905 मिराबिलिस पेपर्स: 1905 Mirabilis Paper

यह पेपर 4 लेखों से संबंधित हैं जिसे आइन्स्टीन (Einstein) ने 1905 को ओंनलडर फिजिक्स नाम की एक वैज्ञानिक (scientist) पत्रिका में प्रकाशित किया हैं जिनमे प्रकाश बिजली प्रभाव (effect of electricity) इसमें क्वंतक विचारों को जन्म दिया.

ब्रौनिओन गति विशेष सापेक्षवाद और e = mc2 शामिल हैं. इन 4 लेखों ने आधुनिक भौतिकी (physics) की नीवं के लिये काफी योगदान (contribution) दिया हैं और अन्तरिक्ष समय तथा द्रव पर लोगो की सोच को बदला (change the thinking) हैं इनके 4 लेख इस प्रकार हैं –

  1. एक अनुमानी नजरिया उत्पादन और प्रकाश (light) के परिवर्तन के सम्बन्ध पर.
  2. एक स्थिर (stabled) तरल में निलबिंत छोटे कणों की गति पर गर्मी की आणविक कैनेटिक थ्योरी (theory) के लिये आवश्यक.
  3. आगे बढ़ते कणों के बिजली (electricity) के गतिमान (इलेक्ट्रो-डाइनैमिक) पर.
  4. क्या एक शरीर (body) की जड़ता अपनी उर्जा साम्रगी पर निर्भर (depend) करती हैं.

उष्मागति और अस्थिरता : Thermodynamics and instability

साल 1900 में ओनालेनडर फिजिक (physics) को प्रस्तुत आइन्स्टीन के पहला शोध-पत्र (research paper) पर था. यह 1901 में केशिक्तव घटना की व्याख्या से निष्कर्ष शीर्षक (title) के साथ प्रकाशित किया गया हैं, जिसमे पता चलता हैं कि अणुओं (atom) की उपस्तिथि हेतु ब्राउन-नियन गति को ठोस सबूत (proof) की तरह उपयोग किया जाता हैं 1903 और 1904 में उनका शोध (research) मुख्य रूप से प्रसार घटना पर परिमित परमाणु आकार का असर (effect) पर सम्बन्धित हैं.

फोटोन और उर्जा क्वान्टा : Photon and Energy Quantum

1905 के समय में एक पत्र में आइन्स्टीन (Albert Einstein) ने बताया हैं कि प्रकाश स्वत की स्थानीय कणों (क्वान्टा) के बने होते हैं. आइन्स्टीन (Albert Einstein) के प्रकाश क्वान्टा परिकल्पना को मैक्स प्लैंक and नील्स बोर सहित सभी भौतिकिविदों ने माना नहीं था.

राबर्ट मिल्लिकन की प्रकाश बिजली प्रभाव (light effect) पर लंबा प्रयोग और कॉप्टन बिखरने की माप के साथ यह परिकल्पना सार्व-भौमिक रूप से 1919 में accept कर लिया गया था.

आइन्स्टीन (Albert Einstein) ने निष्कर्ष निकाला हैं कि आवर्ती F की हर लहर, उर्जा HF प्लैंक स्थिरांक हैं. उन्होंने इस बारे में और अधिक नहीं (did not tell more) बताया हैं क्योंकि वे कन्फर्म नहीं थें, कुछ प्रयोग शोध करके समझाया (understand) जा सकता हैं जिसे ही बाद में विशेष रूप से प्रकाश विद्दुत (light) कहा जाता हैं.

चाल कोण : Gait Angle

1910 के दशक के समय अलग-अलग तरीकों (different ways) से क्वन्तक यांत्रिकी के दायरे में लाने के लिये इसका विस्तार (develop) हुआ. अर्नेट रदरफोर्ड के नाभिक की खोज (find) और यह प्रस्ताव के बाद की इलेक्ट्रोन ग्रहों की तरह कक्षा में घूमते हैं.

नील्स बोह (Neils Boh) यह दिखाने में सक्षम हुए कि प्लैंक द्वारा शुरू और आइन्स्टीन (Einstein) द्वारा विकसित (developed) क्वान्तक यांत्रिक के द्वारा तत्वों के परमाणुओं में इलेक्ट्रानों की असतत गति (speed) और तत्वों की आवर्त सारणी को समझाया जा सकता हैं.

गैर वैज्ञानिक विरासत : Non-scientific Heritage

एक बार आइन्स्टीन (Albert Einstein) अपनी पत्नी एल्सा और गोद ली हुई पुत्री कदमूनी मार्गेट को एक पत्र (letter) लिखा था. मार्गेट आइन्स्टीन ने इन निजी पत्रों (personal letters) को जनता के लिये उपलब्ध कराने के लिये अनुमति (permission) दे दी थीं लेकिन साथ ही अनुरोध भी किया की इनकी मृत्यु (death) के 20 साल बाद तक ऐसा नहीं किया जाये. उनकी मृत्यु 1986 में हो गयी थीं.

आइन्स्टीन (Albert Einstein) ने ठठेरे प्लंबर के पेशे में अपनी रूचि (interest) व्यक्त की थीं और बाद में उन्हें प्लंबर और स्टीम-फिटर्स यूनियन (union) का एक मानद मेंबर बनाया गया था.

हिबू विश्वविद्यालय (university) के अल्बर्ट आइन्स्टीन (Albert Einstein) बारबरा वोल्फ ने बीबीसी को बताया की 1912 और 1955 के बीच लिखे निजी पत्राचार (personal letters) के लिये लगभग 3500 पत्र हैं.

अल्बर्ट आइंस्टीन की मृत्यु Albert Einstein Death

जर्मनी (Germany) में जब हिटलर शाही का समय आया, तो अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) को यहूदी होने के कारण जर्मनी छोड़ कर अमेरिका (America) के न्यूजर्सी में आकर रहना पड़ा.

अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) वहाँ के प्रिस्टन कॉलेज (college) में अपनी सेवाएं दे रहे थे और उसी समय 18 अप्रैल 1955 में उनकी मृत्यु (death) हो गई.

Steve Jobs Biography and Quotes in Hindi

अल्बर्ट आइंस्टीन के विचार : Albert Einstein Thoughts

  • दो चीजें अनंत हैं: ब्रह्माण्ड और मनुष्य कि मूर्खता (human stupidity); और मैं ब्रह्माण्ड के बारे में दृढ़ता से नहीं कह सकता।
  • जिस व्यक्ति (person) ने कभी गलती नहीं कि उसने कभी कुछ नया (new) करने की कोशिश नहीं की।
  • प्रत्येक इंसान genius है। लेकिन यदि आप किसी मछली को उसकी tree पर चढ़ने की योग्यता से जज करेंगे तो वो अपनी पूरी life यह सोच कर जिएगी की वो मुर्ख है.
  • एक सफल व्यक्ति (successful person) बनने का प्रयास मत करो। बल्कि मूल्यों पर चलने वाले इंसान (person) बनो।
  • जब आप एक अच्छी लड़की (god girl) के साथ बैठे हों तो एक घंटा एक सेकंड के सामान (equal) लगता है। जब आप धधकते अंगारे पर बैठे हों तो एक सेकंड एक घंटे (1 hour) के सामान लगता है। यही सापेक्षता है।
  • क्रोध (anger) मूर्खों की छाती में ही बसता है।
  • यदि मानव जीवन (human life) को जीवित रखना है तो हमें बिलकुल नयी सोच की आवश्यकता (requirement) होगी।
  • इन्सान (human) को यह देखना चाहिए कि क्या है, यह नहीं कि उसके अनुसार क्या होना चाहिए।
  • कोई भी समस्या (problem) चेतना के उसी स्तर पर रह कर नहीं हल (solve) की जा सकती है जिस पर वह उत्पन्न हुई है।
  • बिना सवाल (question) किसी अधिकृत व्यक्ति का सम्मान करना सत्य के खिलाफ (against) जाना है।
  • बीते हुए कल (past) से सीखना, आज में जीना, कल के लिए आशा (hope) रखना। सबसे महत्तवपूर्ण चीज़ है, प्रशन पूंछना बंद मत (don’t stop) करना।
  • मूर्खता (stupidity) और बुद्धिमता में यह फर्क है की बुद्धिमता (intelligence) की एक सीमा होती है।
  • जि़न्दगी एक तरह से साइकिल (cycle) को चलाने के समान है। जिस प्रकार आगे बढ़ने के लिए हमें साइकिल (cycle) पर संतुलन की ज़रूरत होती है, उसी तरह संतुलित जीवन (balanced life) जीकर हम जि़न्दगी में आगे बढ़ सकते हैं।
  • यदि आप किसी कार्य (work) को करने के सारे नियम जानते हैं, तो आप उस कार्य (work) को किसी से भी बेहतर तरीके से कर सकते हैं।
  • समुद्री जहाज (sea ships) किनारों पर सबसे ज़्यादा सुरक्षित है, पर वो किनारों पर खड़े (wait) रहने के लिए नहीं बना है।
  • WWE Wrestler Dwayne Johnson the Rock Biography in Hindi
  • Goswami Tulsidas Biography in Hindi – गोस्वामी तुलसीदास जीवन परिचय

अल्बर्ट आइंस्टीन के रोचक तथ्य : Interesting Facts of Albert Einstein

Albert Einstein एक दिन कही speech देने जा रहे थे रास्ते में जाते समय उनके driver ने उनसे कहा कि मैं आपका भाषण (speech) इतनी बार सुन चुका हूँ कि लोगों के सामने मैं ही आपका भाषण (speech) दे सकता हूँ।

उसकी बात सुनकर उन्होंने उससे कहा ‘ठीक है आज तुम्हीं मेरी जगह भाषण (speech) देना’ Einstein ने driver की पोशाक पहन कर उसका स्थान ले लिया और अपना स्थान driver को दे दिया। भाषण (speech) हॉल में driver ने सचमुच, आइंस्टाइन (Einstein) के जैसे ही, धुआँधार भाषण (speech) दिया।

भाषण (speech) देने के बाद जब लोगों ने प्रश्न (question) पूछने शूरू किए और driver पूरे आत्मविश्वास के साथ जवाब (answer) भी सही दिए। किन्तु किसी एक ने ऐसा कठिन प्रश्न पूछ लिया कि driver को उसका answer नहीं पता था।

इस पर driver ने कहा, “अरे इस प्रश्न का जवाब तो इतना easy है कि मेरा driver ही आपको बता देगा।” ऐसा कहकर उसने driver वाली पोशाक पहने Einstein को जवाब देने के लिए खड़ा कर दिया।

महान वैज्ञानिक (scientist) अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) अपने दिमाग में ही research का विजुअल प्रयोग कर खाका तैयार कर लेते थे। यह उनके laboratory प्रयोग से ज्यादा सटीक होता था।

आइंस्टीन (Einstein) को उनके प्रयोग के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित (honored) किया गया, लेकिन इसके साथ मिलने वाली राशि (money) पर उनका अधिकार नहीं हो पाया। यह राशि उनके तलाक के दौरान बीवी (wife) से सेटलमेंट के दौरान देनी पड़ी।

भले ही आइंस्टीन को world सबसे महान वैज्ञानिक (scientist) मानें, लेकिन वे बचपन में सीखने और पढ़ने में कमजोर और धीमे (weak and slow) थे।

वे यूनिवर्सिटी (university) में दाखिले के लिए पहले एंट्रेन्स एग्ज़ाम में फेल (fail) हो गए थे। एक पैथोलॉजिस्ट (रोग विज्ञानी) ने आइंन्स्टीन के शव परीक्षण के दौरान उनका दिमाग (brain) चुरा लिया था।

उसके बाद वह 20 सालों तक एक जार (jar) में बंद रहा। आइंस्टीन (Einstein) अपनी खराब याददाश्त के लिए बदनाम थे। यह सच है कि वे अक्सर तारीखें, नाम और फोन नंबर भूल (forget) जाते थे।

जर्मन वैज्ञानिक (scientist) आइंस्टीन को इज़राईल के राष्ट्रपति पद का प्रस्ताव (invitation) दिया गया, लेकिन उन्होंने इसे विनम्रतापूर्वक मना (no) कर दिया।

इतने बड़े वैज्ञानिक (scientist) के साथ कोई विवाद न हो, ऐसा हो नहीं सकता। वे 1902 में एक अवैध संतान के पिता (father) बने। 1879 में जन्मे आइंस्टीन की कानूनी रूप से 1909 और 1919 में दो शादियाँ (marriage) हुईं थीं।

जानिए अल्बर्ट आइंस्टीन  की 10 बातें जो आपके लिए सफलता के दरवाजे खोल सकती हैं

  1. कल से सीखें और आज (today) के लिए जिएं. सफल होना चाहते हैं तो जीवन (life) में सवाल करने की आदत (habit) को कभी भी न छोड़ें.
  2. हम अपनी समस्याओं (problems) को उन विचारों के साथ नहीं सुलझा सकते, जिनसे वे उपजे (grow) हों.
  3. तेज होने की पहचान ज्यादा ज्ञानवान (informative) होना नहीं है बल्कि इसका मतलब कल्पना और सपने (dreams) देखने की ताकत है.
  4. सफलता (success) का सबसे बड़ा स्रोत अनुभव है.
  5. जो अपनी सीमाओं (limitations) को जानता है, वहीं उससे आगे जाता है.
  6. तर्क आपको A से B तक ले जाएगा जबकि कल्पना (thinking) के सहारे आप कहीं भी जा सकते हैं.
  7. जीने के दो ही तरीके (way) हैं, पहला यह कि कुछ भी चमत्कार नहीं है और दूसरा (second) यह कि सब कुछ चमत्कार ही है.
  8. जब तुम प्रकृति (nature) को गौर से देखोगे तब कुछ भी बेहतर तरीके (better way) से समझ सकते हो.
  9. किसी एक चीज (thing) को बार-बार करना और हर बार अलग परिणाम की आशा करना मूर्खता (stupidity) है.

10. सबसे पहले आपको खेल (game) के नियमों को जानना चाहिए, उसके बाद ही आप दूसरों से बेहतर खेल (better play) सकते हैं.

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

IAS Ki Tayari Kaise Kare | How to become an IAS officer

10th के बाद क्या करे और कौन सा सब्जेक्ट ले?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *