Difference Between CBSE vs CISCE vs NIOS
Career HindiMe India News Internet Motivational Quotes For Students

Difference Between CBSE vs CISCE vs NIOS

Difference Between CBSE vs CISCE vs NIOS

दोस्त बहुत सारे छात्र, अभिभावक एवं शिक्षक हमसे इस विषय पर हमेशा ऐसे प्रश्न पूछते हैं के “छात्रों के लिए कौन सा बोर्ड बेहतर माना जाता है? आईसीएसई या फिर सीबीएसई (CBSE) और या एनआईओएस.

इस विषय में बहुत लोगों को कई प्रकार की दुविधा होती है. आज हम आपको इस लेख में छात्रों के प्रश्नों की पुष्टि के साथ-साथ इन बोर्ड के बीच के महत्वपूर्ण अंतर के बारे में भी विस्तार से बतायेंगे:

सबसे पहले, हम तीनो बोर्डों के बारे में कुछ बुनियादी तथ्यों को समझेंगे:

CBSE Board Kya hai? यह CBSE Board क्या है?

CBSE बोर्ड भारत का एक मात्र ऐसा बोर्ड है जो की नेशनल लेवल पर सभी पब्लिक एवं प्राइवेट स्कूलस को संचालित करता है. यह बोर्ड भारत सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है.

CISCE Board Kya hai?  यह CISCE Board क्या है?

CISCE परीक्षा का पाठ्यक्रम विदेशी कैम्ब्रिज स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा (यूनाइटेड किंगडम) के पाठ्यक्रम पर आधारित है.

NIOS Board Kya Hai? यह NIOS Board क्या है?

NIOS एक राष्ट्रीय बोर्ड है जो के सीबीएसई और सीआईएससीई / आईसीएसई के समान ही ओपन स्कूलों की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं का प्रबंधन करती है.

What is the Full Form of CBSE Board

Full form of CBSE is The Central Board of Secondary Education.

What is the Full Form of CISCE Board

Full form of CISCE is Council for the Indian School Certificate Examinations.

What is the Full Form of NIOS Board

Full form of NIOS is The National Institute of Open Schooling.

दोस्तों आपको अब तक यह अनुमान तो हो ही गया होगा के इन तीनों बोर्डों की मान्यता बराबर है. इससे कोई भी फर्क नहीं पड़ता के कोई छात्र सीबीएसई या सीआईएससीई और या फिर एनआईओएस से कक्षा 10 तथा 12वीं की अपनी पढाई उत्तिर्ण है.

कैसे करें किसी भी एग्जाम की तैयारी – How To Prepare For Exam

जब ऊपर वर्णित सभी तीन बोर्डों की मान्यता एक बराबर है तो किस बोर्ड को प्राथमिकता दी जानी चाहिए?

आपके इस प्रश्न का उत्तर इस बात पर निर्भर करता है के कक्षा 12 के बाद आप किस प्रकार के करियर को चुनना पसंद करते हैं.

यदि कोई छात्र जेईई मेन (JEE Main) , NEET इत्यादि जैसे प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने की योजना बना रहा है, तो उस छात्र को सीबीएसई बोर्ड चुनना चाहिए क्योंकि इस बोर्ड के पाठ्यक्रम पर ही JEE Main, NEET , WBJEE इत्यादि प्रतियोगी परीक्षाओ का पाठ्यक्रम आधारित होता है.

और यदि कोई छात्र IELTS या TOEFL, जैसे English proficiency test के लिए तैयारी करने की योजना बना रहा है, तो उक्त छात्र को CISCE बोर्ड का चयन करना चाहिए, क्योंकि CISCE का पाठ्यक्रम भारत का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपयुक्त पाठ्यक्रम माना जाता है.

और अगर किसी कारण से कोई छात्र किसी भी स्कूल में कक्षाओं में भाग लेने में असमर्थ है तो वह एनआईओएस से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी कर सकता है.

संक्षेप में कहे तो , सभी तीन बोर्ड (सीबीएसई, एनआईओएस और सीआईएससीई- CBSE Board, CISSE Board and NIOS Board) की समान मान्यता है और छात्र अपनी आवश्यकताओं और सुविधा के अनुसार इन तीनो में से किसी भी बोर्ड का चयन कर सकते हैं.

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

सकारात्मक सोच की शक्ति – The Power Of Positive Thinking in Hindi

IAS Ki Tayari Kaise Kare | How to become an IAS officer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *