खाना हजम न होने पर क्या करे - Khana Hajam Na Hone Pe Kya Kare
Health HindiMe India News

खाना हजम न होने पर क्या करे – Khana Hajam Na Hone Pe Kya Kare

खाना हजम न होने पर क्या करे – Khana Hajam Na Hone Pe Kya Kare

दोस्तों हमारी आजकल की लाइफस्टाइल ने बुजुर्गो में होने वाली बीमारी को आजकल घर घर में बचो और बढ़ो में भी दाल दिया है. खाना हजम ना होना यानी के अपच, अब एक आम बीमारी बनती जा रही है. आज हमको इसके बारे में विस्तार से बताएँगे. (Khana Hajam)

अपच पेट या छाती में एक असहज दर्द को दर्शाता है जो आमतौर पर किसी व्यक्ति के खाने या पीने के बाद होता है। इस स्थिति के अन्य लक्षणों में पेट का पूर्ण और फूला हुआ महसूस करना, मिचली महसूस करना, डकार ना आना शामिल हैं।

अपच लगभग सभी को उनके जीवन में किसी न किसी बिंदु पर प्रभावित करता है, लेकिन आमतौर पर लक्षण हल्के होते हैं और स्थायी नुकसान के बिना कभी-कभी होते हैं।

Tips to Stay Fit in the Summer

खाना हजम ना होने के लक्षण – symptoms of indigestion problem

अपच से पीड़ित लोगों में निम्न में से एक या अधिक लक्षण हो सकते हैं

  • आपने अपना भोजन पूरा नहीं किया है, क्योंकि आप पहले से ही भरा हुआ महसूस कर रहे हैं और हो सकता है कि आप खाना समाप्त न कर सकें।
  • पेट के ऊपरी हिस्से में बेचैनी। आप अपने ब्रेस्टबोन के नीचे और अपनी नाभि के बीच के क्षेत्र में हल्का से गंभीर दर्द महसूस करती हैं।
  • आपके पेट के ऊपरी हिस्से में जलन। आप अपने ब्रेस्टबोन के नीचे और अपनी नाभि के बीच एक असहज गर्मी या जलन महसूस करती हैं।
  • पेट के ऊपरी हिस्से में सूजन। आप गैस के निर्माण के कारण जकड़न की असहज अनुभूति महसूस करते हैं।
  • जी मिचलाना। आपको ऐसा लगता है जैसे आप उल्टी करना चाहते हैं।
  • कम लगातार लक्षणों में उल्टी और डकार शामिल हैं।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

हल्का अपच आमतौर पर चिंता की कोई बात नहीं है। यदि असुविधा दो सप्ताह से अधिक समय तक बनी रहती है तो अपने चिकित्सक से परामर्श करें। यदि दर्द गंभीर हो या इसके साथ हो तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें:

  • अनजाने में वजन कम होना या भूख न लगना
  • खून के साथ बार-बार उल्टी या उल्टी होना
  • काला, रुका हुआ मल
  • निगलने में परेशानी जो बदतर होती जाती है
  • थकान या कमजोरी, जो एनीमिया का संकेत दे सकती है

तत्काल चिकित्सा की तलाश करें

  • सांस की तकलीफ, पसीना या सीने में दर्द जो जबड़े, गर्दन या बांह तक फैलता है
  • तनाव के साथ सीने में दर्द

अपच के कई संभावित कारण होते हैं। अक्सर, अपच जीवन शैली से संबंधित होता है और भोजन, पेय या दवा के कारण हो सकता है।

अपच के सामान्य कारणों में शामिल हैं

  • ज्यादा खाना या बहुत जल्दी खाना
  • वसायुक्त, चिकना या मसालेदार भोजन
  • बहुत अधिक कैफीन, शराब, चॉकलेट या कार्बोनेटेड पेय
  • धूम्रपान
  • चिंता
  • कुछ एंटीबायोटिक्स, दर्द निवारक और आयरन सप्लीमेंट्स

कभी-कभी अपच अन्य पाचन स्थितियों के कारण होता है, जिनमें शामिल हैं

  • पेट की सूजन
  • पेप्टिक अल्सर
  • सीलिएक रोग
  • पित्ताशय की पथरी
  • कब्ज़
  • अग्न्याशय की सूजन
  • आमाशय का कैंसर
  • आंतों में रुकावट
  • आंत में कम रक्त प्रवाह

बिना किसी स्पष्ट कारण के अपच को कार्यात्मक या गैर-अल्सर अपच के रूप में जाना जाता है।

जटिलताओं

हालांकि अपच में आमतौर पर गंभीर जटिलताएं नहीं होती हैं, लेकिन यह आपको असहज महसूस कराकर और आपको कम खाने के कारण आपके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है।

आप अपने लक्षणों के कारण काम या स्कूल को याद कर सकते हैं। जब अपच किसी अंतर्निहित स्थिति के कारण होता है, तो उस स्थिति की अपनी जटिलताएं भी हो सकती हैं। (Khana Hajam)

अच्छे पाचन के लिए 20 नुस्खे – Top 20 Tips for Indigestion Problem

खाना ठीक से नहीं पचने से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। आप लगातार डकार का अनुभव कर सकते हैं, पेट फूलना और यहां तक ​​कि पेट फूला हुआ भी हो सकता है। बेचैनी स्थिति को और खराब कर सकती है जिससे पेट में दर्द और परेशानी भी हो सकती है।

हम अपच को बिना यह जाने अनदेखा कर देते हैं कि इससे और भी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। यह आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है और अल्सर, गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) या यहां तक ​​कि पित्ताशय की बीमारी का कारण बन सकता है।

इस असहज स्थिति से छुटकारा पाने के लिए, हमने कुछ तरीके सूचीबद्ध किए हैं जो अच्छे पाचन में सहायता कर सकते हैं:

गर्म पानी – Drink Warm Water

सुबह सबसे पहले गुनगुना पानी पीने से पाचन क्रिया अच्छी रहती है। आप भोजन से तीस मिनट पहले गर्म पानी भी पी सकते हैं। इससे आपका पाचन तंत्र साफ होगा और आप अपना खाना आसानी से पचा पाएंगे। (Khana Hajam)

खाने के पैटर्न का पालन करें – Change Your Eating Pattern

जैसे ही आप अपना खाना खाना शुरू करते हैं, ऐसे भोजन से शुरू करें जो पचाने में आसान हो। धीरे-धीरे जंक फ़ूड की ओर बढ़ें। इसके अलावा, अधिक खाने से बचें क्योंकि यह पाचन समस्याओं का मुख्य कारण है।

बैठो और अपना खाना खाओ – Sit and Eat Food

यह खाना खाने का सही तरीका है। हमेशा बैठ कर खाना खाओ। जल्दी में भोजन न करें और ठीक से चबाएं। आराम की स्थिति में बैठने से पाचन अच्छा रहता है।

खूब पानी पिएं – Drink More Water

पाचन संबंधी समस्याओं और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए पानी सबसे अच्छा उपाय है। हर दिन कम से कम 8-10 गिलास पानी पीने से आपके पाचन तंत्र को साफ करने में मदद मिलती है और पेशाब और मल का रास्ता सुगम होता है। (Khana Hajam)

नींबू पानी है फायदेमंद – Drink Lemon Water

यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जो सुबह गर्म पानी नहीं पी सकते हैं। एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर खाली पेट पिएं। यह आपके पेट और पाचन तंत्र को साफ करने का एक और तरीका है।

मालिश से मदद मिल सकती है – Massage

आप स्व-मालिश का अभ्यास कर सकते हैं या पेट का व्यायाम कर सकते हैं। आप अपने पेट की मालिश करने के लिए आवश्यक तेलों का उपयोग कर सकते हैं।

यह अनुशंसा की जाती है कि किसी भी प्रकार के पेट व्यायाम के लिए किसी विशेषज्ञ से सलाह लें। और अगर आप किसी एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल कर रहे हैं तो किसी विशेषज्ञ की सलाह के बाद ही लें।

चबाकर छोटे-छोटे टुकड़े करके खाए- Take Small bites

अपने खाने के छोटे-छोटे टुकड़े अच्छे से स्थिर रूप से चबाएं। यह एमाइलेज के उत्पादन की अनुमति देगा, जो कि पाचक एंजाइम है, और उचित पाचन को बढ़ाता है। (Khana Hajam)

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ खाएं – Eat Fiber Rich Food

फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ पाचन प्रक्रिया को आसान बनाते हैं। इसलिए, अपने आहार से प्रोटीन को न छोड़ें। चेरी, अंगूर, नट्स बेल मिर्च और साबुत अनाज जैसे खाद्य पदार्थ जोड़ें।

वसायुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन सीमित करें – Limited Fatty Food

पाचन को बढ़ावा देने का एक अन्य तरीका वसायुक्त खाद्य पदार्थों के सेवन को सीमित करना है। इन खाद्य पदार्थों से कब्ज और अन्य पाचन संबंधी समस्याएं होने की संभावना अधिक होती है।

लेकिन उन्हें अपने आहार से समाप्त न करें क्योंकि वे हमारे शरीर के समुचित कार्य के लिए भी आवश्यक हैं। उन्हें कम मात्रा में खाएं और उन्हें अन्य स्वस्थ खाद्य पदार्थों के साथ मिलाने का प्रयास करें।

विटामिन सी से भरपूर भोजन करें – Add More Vitamin C in Food

विटामिन सी आवश्यक है क्योंकि यह मल को नरम करता है और इसे पास करना आसान बनाता है। इसलिए विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन बढ़ाएं। आप ब्रोकली, फल, स्ट्रॉबेरी, संतरा, केल, कीवी और हरी मिर्च खा सकते हैं। (Khana Hajam)

मसालों से परहेज न करें – Avoid Masale

अदरक, काली मिर्च और धनिया जैसे मसाले न सिर्फ आपके खाने का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि सेहत और सेहत के लिए भी बहुत अच्छे होते हैं। वे आपके पाचन तंत्र में भी सुधार करते हैं।

अपना भोजन समय पर करें – Eat On Time

यह अच्छे पाचन की एक और कुंजी है। हर दिन एक ही समय पर खाना खाने की कोशिश करें।

स्वस्थ वजन बनाए रखें – Maintain Your Weight

आपका वजन आपके स्वास्थ्य को बहुत प्रभावित कर सकता है। मोटापा या अधिक वजन होने से पाचन संबंधी समस्याओं सहित कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। अपना वजन बनाए रखने के लिए स्वस्थ खाएं और रोजाना कसरत करें।

लीन मीट को प्राथमिकता दें – Eat Lean Meat

अगर आप मांसाहारी हैं, तो वसायुक्त मांस के बजाय दुबले मांस का सेवन करें। इससे भोजन को आसानी से पचने में मदद मिलेगी।

अपना पेशाब या मल न रोके – Do Not Avoid Nature Call

जैसे ही आपको शौचालय का उपयोग करने की इच्छा हो, तुरंत जाएं। अपने मलमूत्र में देरी करने से आपकी मलाशय की मांसपेशियों पर दबाव पड़ सकता है और दर्द हो सकता है। यह मार्ग को कठिन भी बना सकता है। (Khana Hajam)

नियमित रूप से व्यायाम करें – Do Regular Exercise

नियमित रूप से व्यायाम करने से अच्छे पाचन सहित कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। वर्कआउट मेटाबॉलिज्म को भी बढ़ाता है और हमारे रक्त प्रवाह में सुधार करता है। यह शरीर के सही वजन को बनाए रखने का एक आदर्श तरीका है।

खाने को कम करे – Eat Less

आप क्या खा रहे हैं और कितना खा रहे हैं यह आपकी पाचन प्रक्रिया के लिए महत्वपूर्ण है। अधिक खाने से अपच की समस्या होगी। इसलिए, कम भोजन को प्राथमिकता दें.

अपने आप को तनाव न दें – Reduce Stress

तनाव एक और कारण है जो लगातार पाचन संबंधी समस्याएं पैदा कर सकता है। यह आपके पाचन तंत्र पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। सांस लेने के व्यायाम, ध्यान और उन सभी गतिविधियों सहित विभिन्न तनाव-बस्टर का प्रयोग करें जो आपके दिमाग और शरीर को शांत करते हैं।

अपने आहार में प्रोबायोटिक्स शामिल करें – Ad Probiotic Food

पेट और पाचन संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए प्रोबायोटिक्स खाना सबसे अच्छा तरीका है। आप दही खा सकते हैं क्योंकि यह प्रोबायोटिक्स से भरपूर होता है, जो स्वस्थ बैक्टीरिया है।

यह आपके शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम का इलाज करता है और पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ावा देता है। (Khana Hajam)

देर रात का खाना कभी भी अच्छा विकल्प नहीं होता – Avoid Late Night Eating

देर रात के भोजन से बचें क्योंकि यह आपके पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा, अपने रात के खाने में हल्का खाना खाने की कोशिश करें क्योंकि यह आपके भोजन को पचाने का आसान तरीका है!

One Reply to “खाना हजम न होने पर क्या करे – Khana Hajam Na Hone Pe Kya Kare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *