Shankar Mera Pyara - शंकर मेरा प्यारा
Bhajan Dharmik

Shankar Mera Pyara – शंकर मेरा प्यारा

Shankar Mera Pyara – शंकर मेरा प्यारा

शंकर मेरा प्यारा, शंकर मेरा प्यारा ।

माँ री माँ मुझे मूरत ला दे, शिव शंकर की मूरत ला दे,

मूरत ऐसी जिस के सर से निकले गंगा धारा ॥

माँ री माँ वो डमरू वाला, तन पे पहने मृग की छाला ||

रात मेरे सपनो में आया, आ के मुझ को गले लगाया |

गले लगा कर मुझ से बोला, मैं हूँ तेरा रखवाला||

शंकर मेरा प्यारा, शंकर मेरा प्यारा

माँ री माँ मुझे मूरत ला दे, शिव शंकर की मूरत ला दे,

मूरत ऐसी जिस के सर से निकले गंगा धारा

माँ री माँ वो मेरा स्वामी, मैं उस के पथ की अनुगामी ||

वो मेरा है तारण हारा, उस से मेरा जग उजियारा |

है प्रभु मेरा अन्तर्यामी, सब का है वो रखवाला ||

शंकर मेरा प्यारा, शंकर मेरा प्यारा

माँ री माँ मुझे मूरत ला दे, शिव शंकर की मूरत ला दे,

मूरत ऐसी जिस के सर से निकले गंगा धारा ||

दोस्तों, आप यह Article Prernadayak पर पढ़ रहे है. कृपया पसंद आने पर Share, Like and Comment अवश्य करे, धन्यवाद!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *