Thomas Alva Edison Biography in Hindi | थॉमस एल्वा एडिसन की जीवनी
Biography in Hindi

Thomas Alva Edison Biography in Hindi | थॉमस एल्वा एडिसन की जीवनी

Thomas Alva Edison Biography in Hindi | थॉमस एल्वा एडिसन की जीवनी, रोचक तथ्य और कहानिया

Thomas Alva Edison Biography in Hindi

नाम Name – थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison)

पिता का नाम Father’s Name – Samuel Ogden Edison, Jr

माता का नाम Mother’s Name – Nancy Matthews Elliott

जन्म Date of Birth – दिनांक 11 फरवरी, 1847

जन्म स्थान Birth Place – मिलान, ओहियो

राष्ट्रीयता – Nationality – अमेरिकन

शिक्षा Study – Self-educated

पत्नी Wife – Mina Miller

उपलब्धि Achievements – Edward Longstreth Medal, Technical Grammy Award,

उनका मध्य नाम अल्वा (Alva) था और उनके परिवार के लोग प्यार से अल पुकारते थे।

उनके पहले दो बच्चों (children’s) का निकनेम डॉट और डैश था।

वह करीब-करीब बहरे थे।

उनका पहला आविष्कार (invention) इलेक्ट्रिक वोट रिकॉर्डर मशीन थी।

1093 आविष्कार तो उनके नाम से पेटेंट (patent) है। वैसे उन्होंने करीब 3 हजार आविष्कार किए।

विदेश में नौकरी कैसे पाए

Private Job Kaise Paye

(Thomas Alva Edison Biography)

थॉमस एल्वा एडिसन के अविष्कार – Thomas Alva Edison Inventions in Hindi

1. थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने अपनी पहली प्रयोगशाला सिर्फ 10 साल की आयु (age) में ही बना ली थी। उनकी मां ने उन्हें एक ऐसी पुस्तक (book) दी जिसमें कई सारे रसायनिक प्रयोग (test) दिए हुए थे। एडिसन को यह पुस्तक भा गई और उन्होंने अपने सारे पैसे रसायनो (chemicals) पर खर्च करके यह सारे प्रयोग कर डाले।

2. एडिसन (Thomas Alva Edison) 12 वर्ष की आयु में फलों और समाचारपत्रों (newspaper) के विक्रय का धंधा करके परिवार को प्रति दिन एक डालर की सहायता (help) देने लगे। वे रेल में पत्र छापते और वैज्ञानिक (scientist) प्रयोग करते। जब उनका कोई प्रयोग पूरा होने को होता तो वह बिना सोए (sleeping) लगातार 4- 4 दिन इस प्रयोग के खत्म होने तक लगे रहते। साथ ही काम करते समय कई बार (so many times) अपना खाना खाना ही भूल जाते थे। (Thomas Alva Edison Biography)

3. Edison को बचपन से ही सुनने में तकलीफ (problem) होती थी। ये सब तब से चल रहा था जब से बचपन (childhood) में उन्हें एक तेज़ बुखार आया था और उस से उबरते समय उनके दाहिने कान (right ear) में चोट आ गयी थी। तभी से उन्हें सुनने में थोड़ी-बहोत परेशानी होती थी।

4. उनके करियर के मध्य, उन्होंने अपनी बीमारी (disease) के बारे में बताया की जब वे ट्रेन में सफ़र कर रहे थे तभी एक केमिकल (chemical) में आग लग गयी, जिस वजह से वे ट्रेन के बाहर फेके गये और उनके कान में (injury) चोट आ गयी।

कुछ साल बाद ही, उन्होंने इस कहानी को तोड़ते हुए एक नहीं कहानी 9new story) बनाई और कहने लगे की जब चलती ट्रेन में कंडक्टर (conductor) उनकी मदद कर रहा था, तभी अचानक उनके कान में चोट (injury) लगी थी।

5. थॉमस एडिसन (Thomas Alva Edison) ने 14 साल की आयु में एक 3 साल के बच्चे को ट्रेन (train) के नीचे आने से बचाया। उस बच्चे के पिता ने एडिसन का बहुत धन्यवाद (thanks) किया। साथ ही एडिसन को टेलीग्राम मशीन (telegram) चलानी सिखाई। बाद में एडिसन को कहीं पर टेलीग्राम (telegram) चलाने के विषय में एक स्टेशन पर नौकरी भी मिल गई। उन्होंने अपनी नौकरी (job) का समय रात को करवा लिया, ताकि प्रयोगो के लिए ज्यादा समय मिल सके।

6. 1869 ई. में एडिसन (Thomas Alva Edison) ने अपने सर्वप्रथम आविष्कार “विद्युत मतदानगणक” को पेटेंट (patent) कराया। नौकरी छोड़कर प्रयोगशाला में आविष्कार करने का निश्चय कर निर्धन एडिसन (poor Edison) ने अदम्य आत्मविश्वास का परिचय दिया।

1870-76 ई. के बीच एडिसन ने अनेक आविष्कार (invention) किए। एक ही तार पर चार, छह, संदेश अलग अलग भेजने की विधि खोजी, स्टॉक एक्सचेंज (stock exchange) के लिए तार छापने की स्वचालित मशीन को सुधारा, तथा बेल टेलीफोन यंत्र (bell telephone instrument) का विकास किया।

उन्होंने 1875 ई. में “सायंटिफ़िक अमेरिकन” में “ईथरीय बल” पर खोजपूर्ण लेख (article) प्रकाशित किया; 1878 ई. में फोनोग्राफ मशीन पेटेंट (patent) कराई जिसकी 2010 ई. में अनेक सुधारों के बाद वर्तमान रूप मिला।

Kobe Bryant Biography in Hindi

10. उन्होंने ज्यादा रेसिस्टेंस वाली कार्बन थ्रेड फिलामेंट (carbon thread filament) विकसित की, जो 40 घंटे तक चल सकती थी। 40 इलेक्ट्रि‍क लाइट बल्ब (electric light bulb) जलते देखने के लिए 3 हजार लोगों का हुजूम जुटा था। जिसके बाद न्यूयॉर्क सिटी में पर्ल स्ट्रीट पावर स्टेशन खोलने के बाद ग्राहकों को बिजली पहुंचानी शुरू की गई।

11. थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने विद्युत प्रकाश के अलावा सिनेमा, टेलीफोन (telephone), रिकॉर्ड और सीडी का सृजन किया और योगदान दिया था। उनके समस्त अविष्कार (invention) आज किसी न किसी रूप में उपयोग में है।

एडीसन के शोधो के आधार पर ही बाद मे रेमिँगटन टाइप रायटर (Remington type writer) विकसित किया गया। इन्होने एक विद्युत (electricity) से चलने वाला पेन भी खोजा, जो बाद मे मिमोग्रफ के रूप मे विकसित हुआ। सन् 1889 मे उन्होने चलचित्र कैमरा )camera) भी विकसित किया। (Thomas Alva Edison Biography)

12. एडिसन (Thomas Alva Edison) एक महान अविष्कारक थे, उनके समय में उन्होंने पुरे US के 1093 पेटेंट्स अपने कब्जे (control) में कर रखे थे, और इसके अलावा यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस और जर्मनी (Germany) में भी उनके कई सारे पेटेंट्स है। उनके इन सभी पेटेंट्स (patents) का उनके अविशाकारो पर बहुत प्रभाव पड़ा।

13. वे एक वैज्ञानिक (scientist) ही नही बल्कि एक सफल उद्यमी भी थे। वे हर दिन अपने काम करने के बाद बचे समय को प्रयोग (test) और परिक्षण में लगते थे। उन्होंने अपनी कल्पना शक्ति और स्मरण शक्ति (memory power) का उपयोग अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में लगाया।

उनके इसी टैलेंट (talent) की बदौलत उन्होंने 14 कंपनियों की स्थापना की जिनमे जनरल इलेक्ट्रिक (general electric) भी शामिल है, जो आज भी दुनिया की सबसे बड़ी व्यापर करने वाली कंपनी (company) के नाम से जानी जाती है।

14. प्रथम विश्वयुद्ध में थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने जल सेना सलाहकार बोर्ड का अध्यक्ष (chief) बनकर 40 युद्धोपयोगी आविष्कार किए। पनामा पैसिफ़िक प्रदर्शनी ने 21 अक्टूबर 1915 ई. को एडिसन दिवस (Edison day) का आयोजन करके विश्वकल्याण के लिए सबसे अधिक अविष्कारों (inventions) के इस उपजाता को संमानित किया।

1927 ई. में एडिसन नैशनल ऐकैडमी ऑव साइंसेज़ के सदस्य (member) निर्वाचित हुए। 21 अक्टूबर 1929 को राष्ट्रपति दूसरे ने अपने विशिष्ट अतिथि (chief guest) के रूप में एडिसन का अभिवादन किया।

15. अंतिम समय में बीमार (unhealthy) रहने के बावजूद भी उन्होंने कई अविष्कार करने में लगे रहे। मृत्यु (death) को भी उन्होंने गुरुतर प्रयोगों के लिए दूसरी प्रयोगशाला में पदार्पण समझा। “”मैंने अपना जीवनकार्य (lifetime) पूर्ण किया।

अब मैं दूसरे प्रयोग के लिए तैयार हूँ””, इस भावना के साथ विश्व (world) की इस महान उपकारक विभूति ने 18 अक्टूबर 1931 को संसार से विदा ली। (Thomas Alva Edison Biography)

TamilRockers  2020

50 Interesting Facts about IPL in Hindi | IPL से जुड़े 50 रोचक तथ्य

थॉमस एल्वा एडिसन के बारे में रोचक बाते | Interesting Facts about Thomas Alva Edison

थॉमस अल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) इतिहास के महान आविष्कारक थे। एक हजार से ज्यादा आविष्कार (invention) तो उनके नाम से पेटेंट है। इसके अलावा भी कई आविष्कार (invention) उन्होंने किए। उनके आविष्कारों का अब तक हमारे जीवन पर असर (effect on life) पड़ता है।

वह एक उद्यमी भी थे। उन्होंने कई कंपनियों की भी नींव रखी जिनमें से एक जनरल इलेक्ट्रिक (general electric) है जो आज के समय में दुनिया के सबसे बड़े कॉर्पोरेशनों (corporation) में से एक है। 18 अक्टूबर, 1931 को वेस्ट ऑरेंज, न्यू जर्सी में उनका निधन (death) हुआ था।

​सब्जी बेचने से टेलिग्राफ ऑपरेटर का सफर

एक दिन उन्होंने एक बच्चे को ट्रेन (train) के नीचे आकर कुचलने से बचाया। बच्चे के पिता ने एडिसन को टेलिग्राफ ऑपरेटर (telegraph operator) की ट्रेनिंग दी और जॉब लगवाई। यहां उन्होंने नाइट शिफ्ट (night shift) की मांग की ताकि रात में आविष्कारों पर काम कर सकें। यहीं से उनके और आविष्कार का रास्ता खुला। (Thomas Alva Edison Biography)

​मेनलो पार्क

मेनलो पार्क, न्यू जर्सी में थॉमस अल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने अपना रिसर्च लैब बनाया था। यह पहला संस्थान था जहां जो सिर्फ आविष्कार (invention) को समर्पित था। वहां एडिसन (Thomas Alva Edison) आविष्कार करते और फिर उसका व्यावहारिक इस्तेमाल करते। फिर उसका बड़े पैमाने पर निर्माण (develop) होता था।

मेनलो पार्क में बड़ी संख्या में एडिसन (Thomas Alva Edison) के कर्मचारी काम करते थे। ये आम कर्मचारी नहीं थे बल्कि आविष्कारकों (inventors) की टीम थी जो एडिसन को आविष्कारों का आइडिया देते थे। (Thomas Alva Edison Biography)

काफी प्रसिद्ध आविष्कार

उनके तीन काफी प्रसिद्ध आविष्कार (inventions) हैं.

फोनोग्राफ:

थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) का यह पहला सबसे बड़ा आविष्कार था। इससे वह काफी प्रसिद्ध (famous) हुए। यह पहली मशीन थी जिसमें आवाज को रिकॉर्ड (sound record) और प्लेबैक किया जा सकता था।

लाइट बल्ब:

उन्होंने इलेक्ट्रिक लाइट बल्ब (electric bulb) बनाए जिसका घरों में इस्तेमाल होता है। उन्होंने लाइट बल्ब (light bulb) के लिए सहायक अन्य चीजें जैसे सेफ्टी फ्यूज (safety fuse) और ऑन/ऑफ स्विच बनाए।

मोशन पिक्चर:

उन्होंने मोशन पिक्चर (motion picture)  बनाने पर काफी काम किया।

​टीचर सोचते थे मंदबुद्धि है एडिसन

थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) खोजी दिमाग के छात्र थे। हर चीज के बारे में जानने की उनके अंदर इच्छा होती थी। लेकिन उनका दिमाग भटकता रहता था जिससे पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित (focus) नहीं कर पाते थे।

उनके शिक्षक सोचते थे कि थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) मंदबुद्धि है। इस बारे में एडिसन (Thomas Alva Edison) की ममी को भी पता चल गया। उन्होंने तीन महीने बाद ही बेटे का स्कूल (school) से नाम कटवा दिया। उन्होंने घर पर ही एडिसन की शिक्षा की व्यवस्था की। (Thomas Alva Edison Biography)

10 साल में बनाया अपना पहला लैब

उस समय थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) की उम्र महज 9 साल थी। उनकी मां ने विज्ञान की शुरुआती किताब (book) दी। किताब में बताया गया था कि घर पर रसायनिक (chemical) प्रयोग कैसे करें।

एडिसन ने इसमें काफी दिलचस्पी ली। उन्होंने किताब (book) के सारे प्रयोग कर डाले और केमिकल (chemical) खरीदने पर अपने पास के सारे पैसे खर्च (spend his money) कर डाले। 10 साल की उम्र में एडिसन ने अपना पहला साइंस लैब (science lab) खोला। यह लैब उनके घर की बेसमेंट में था।

लैब (lab) में एडिसन इतने व्यस्त रहते थे कि उनके पिता बेसमेंट (basement) से निकलने के लिए उनको पैसे का लालच दिया करते थे। एडिसन उस पैसे का इस्तेमाल प्रयोग के लिए और केमिकल्स खरीदने (buying chemicals) में करते। कोई उनके केमिकल्स को ले न जाए, इसलिए उन्होंने सभी बोतल पर ‘जहर’ का एक लेबल (label) चिपका दिया था।

​पहला आविष्कार जिसका पेटेंट कराया

साल 1869 की बात है। उस समय थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) की उम्र सिर्फ 22 साल थी। उन्होंने पहला पेटेंट कराया एक ऐसी मशीन (machine) का जिसकी मदद से वोट रेकॉर्ड (vote record) किया जा सकता था। दरअसल उस समय अमेरिकी संसद (American parliament) में ध्वनिमत को गिनने के लिए कोई उपयुक्त व्यवस्था नहीं थी।

एडिसन थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने एक ऐसी मशीन बनाने की सोची जिसकी मदद से वोटों की गिनती (vote counting) आसानी से हो। हर विधायक या सांसद को किसी विधेयक पर मतदान के समय एडिसन थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) की मशीन का स्विच ऑन करना होता था। ऐसा करते ही वोट रेकॉर्ड (vote record) हो जाता था जिसकी बाद में मशीन से गिनती हो जाती। (Thomas Alva Edison Biography)

Chandrayaan 2 Facts in Hindi | चंद्रयान 2 से जुड़े 50 रोचक तथ्य

9xRockers 2020

रहस्यमय टैटू

थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने न्यू यॉर्क की म्यूचुअल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी से 1911 में एक पॉलिसी (policy) ली थी। पॉलिसी में दी गई जानकारी के मुताबिक, एडिसन की बायीं भुजा पर पांच डॉट वाला टैटू (5 dot tattoo) था।

किसी को भी उसका मतलब पता नहीं है। वैसे इस बात का शक है कि यह टैटू एडिसन थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने खुद प्रयोग के तौर पर बनाए हों। दरअसल टैटू के लिए उन्होंने एक स्टेनसिल पेंस (stencil pen) नाम की डिवाइस बनाई थी। उस मशीन पर सैमुएल ओरेली ने काम किया और उसे दुनिया की पहली टैटू मशीन (1st tattoo machine) बनाई।

लेकिन इस बात का साक्ष्य नहीं मिला कि एडिसन ने मशीन का खुद प्रयोग कर टैटू (tattoo) बनाया हो। बहरहाल, अभी तक यह रहस्य ही है कि एडिसन की बांह (tattoo) पर टैटू क्यों थे?

एडिसन का वह आविष्कार जिनसे एक जान ली

1895 में विल्हल्म कानरैड रोंटजेन ने एक्स-रे (x ray) की खोज की। एक्स-रे की इमेज को डिवेलप किए बगैर एक डिवाइस की मदद (with the help of device) से देखा जा सकता था। उसका नाम था फ्लोरोस्कोप। फ्लोरोस्कोप (fluoroscope) में एक फ्लोरीसेंट स्क्रीन लगी होती थी। ए़डिसन ने अपने एक कर्मचारी, क्लैरेंस डैली को फ्लोरोस्कोप (fluoroscope) बनाने को कहा।

एडिसन का यह आविष्कार काफी सफल (successful) रहा। आधुनिक समय में अस्पतालों (hospital) में जिस फ्लोरोस्कोपी का इस्तेमाल किया जाता है, वह इससे ही प्रेरित है। उस समय एक्स-रे (x ray) को खतरनाक नहीं माना जाता था। क्लैरेंस की आदत थी कि वह एक्स-रे ट्यूब (x ray tube) को अपने हाथ पर रखकर उसका परीक्षण करते।

साल 1900 में इस वजह से उसकी कलाई (wrist) पर जख्म हो गया। जख्म इतना खतरनाक हो गया कि अंत में उसका हाथ काटना (hand cut) पड़ा। कुछ समय बाद उसकी दोनों बांहों (both hands) को भी काटना पड़ा। इसके बाद भी हालत बिगड़ती रही और अंत में कैंसर से उसकी मौत (death by cancer) हो गई।

इस घटना से भयभीत होकर एडिसन ने फ्लोरोस्कोप (fluoroscope) पर काम करना बंद कर दिया। 1903 में न्यू यॉर्क वर्ल्ड को एक इंटरव्यू में एडिसन (Edison) ने बताया था, मुझे उससे डर लगता है। जब मैं अपनी आंखों की रोशनी खोने (losing eye sight) के करीब था और मेरे सहायक डैली के हाथ काटने पड़े, तब से मैंने फ्लोरोस्कोप पर प्रयोग करना बंद कर दिया। (Thomas Alva Edison Biography)

 – थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) को बचपन में अपने प्रयोग जारी रखने के लिए पैसो की जरूरत थी. पैसे कमाने के लिए वह ट्रेन (train) में अखबार और सब्जी बेचते थे.
 – 15 वर्ष की आयु में उन्होंने एक second-hand प्रीटिंग प्रैस खरीदा जिसमें वह एक पत्रिका ‘Weekly herald’ छापते. इसे वह खुद संपादन करते और स्टेशनो (stations) आदि पर बेचते.
 – जब उनका कोई प्रयोग पूरा होने को होता तो वह बिना सोए (without sleeping) लगातार 4-4 दिन इस प्रयोग के खत्म होने तक लगे रहते. और वह काम करते समय कई बार अपना खाना खाना ही भूल (forget to eat) जाते थे.
 – सन 1879 से 1900 तक ही एडीसन अपनी सारी प्रमुख खोजे (major inventions) कर चुके थे और वह एक वैज्ञानिक के साथ-साथ एक अमीर व्यापारी (rich businessman) भी बन चुके थे.
 – एडीसन ने अपने 8 साल और 10 लाख डॉलर बिजली स्टोर (electric store) करने वाली बैटरी बनाने में लगा दिए थे जो कि कारो (Cars) में प्रयोग होती थी.
 – थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) का प्रसिद्ध कथन है, “जीनीयस व्यकित 1 प्रतीशत प्रेरणा और 99 प्रतीशत मेहनत (hard work) से बनता है.”
 – अपनी पहली खोज के लिए एडीसन (edison) को लगभग उस समय में 40,000 डॉलर मिले थे जो आज के 7,50,000 डॉलर के बराबर है.
 – एडीसन लगभग 18 घंटे अपनी वर्कशाप (workshop) पर काम करते हुए ही बिताते थे.
 – अलैक्जैंडर ग्राहम बैल द्वारा खोजे गए टेलीफोन (telephone) में एडीसन ने बहुत सारे सुधार किए और ज्यादा दूरी में बात किए जाने वाले टेलीफोनो (telephone) की आवाज को ज्यादा स्पष्ट बनाया.
 – थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने ही 1890 में पहला फिल्मी कैमरा (camera) बनाया था जो कि एक सैकेंड में 25 चित्र खींच सकता था. (Thomas Alva Edison Biography)

American President Donald Trump Biography and Quotes in Hindi

ज़िन्दगी के मायने समझाते 30 अनमोल विचार | 30 Life Quotes In Hindi

थॉमस एल्वा एडिसन की कुछ बाते जो उन्हें महान बनाती है | Things Which Make Thomas Alva Edison Great

1- महान थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) अपनी खोजों में इस प्रकार खोए रहते थे कि कई दिनों तक प्रयोगशाला (laboratory) से बाहर भी नहीं निकलते थे। यहां तक कि अपना भोजन (food) भी वही मंगा लेते थे। कई बार तो उनकी पत्नी यह देखकर उनसे नाराज (angry) भी हो जाती थीं।

काफी दिनों बाद एडिसन (edison) जब अपनी प्रयोग से बाहर आए तो उनकी पत्नी (wife) ने उन्हें सलाह दी “आप दिन-रात काम में लगे रहते हैं कभी-कभी दो-चार दिन की छुट्टी (leave) भी ले लिया करो”।
एडिशन ने कहा “वह तो ठीक है लेकिन मैं छुट्टी (leave) लेकर जाऊंगा कहां”।
पत्नी “जहां आपका मन करे”।
फिर थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने कहा “तो फिर मैं वही जाता हूं”।
यह कहकर एडिशन पुनः अपनी प्रयोगशाला (laboratory) में चले गए।

2- थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) को बचपन से ही एक घटना के चलते कम सुनाई देता था। इसके बावजूद थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) हमेशा अपने कार्यों में लीन रहते और एक महान वैज्ञानिक (great scientist) के रूप में दुनिया के सामने आए।

उन्होंने अपने जीवन में काफी संघर्ष (struggle) किया। उन्होंने अपने बचपन में अखबार तथा सब्जियां (vegetables) भी बेचीं। एडिसन ने अपने बहरेपन को अपनी कमजोरी (weakness) ना मानकर इसे एक वरदान के रूप में लिया। एडिशन कहते हैं “मुझे इस बात की खुशी (happy) है कि बहरापन मुझे, लोगों की फिजूल की बातों को सुनने से वंचित कर दिया।

मैं जब भी कहीं जाता हूं तो लोग गपशप (gossip) करते रहते हैं, और मैं अपनी समस्याओं के बारे में सोचता (thinking) रहता हूं। अगर मैं भी उन फिजूल की बातों का सुनता तो शायद आज मुझमें उतना मनोबल (confidence) ना होता”। इस प्रकार एडिसन ने अपनी कमजोरी को अपनी ताकत (powerful) बनाई।

3- एक बार थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) फोनोग्राम के आविष्कार में व्यस्त थे कि एक समस्या (problem) आन पड़ी उन्होंने इसका समाधान अपने एक सहायक (help) को करने के लिए दे दिया। वह 2 सालों तक लगातार इसका समाधान (answer) खोजता रहा लेकिन वह इसका समाधान ना कर सका।

वह एडिसन (edison) के पास पहुंचा और कहा “मिस्टर एडिसन मैंने आपके हजारों डॉलर (thousands of dollars) तथा अपने जीवन के 2 साल इसमें खपाए हैं। यदि इसका कोई हल (resolve the problem) होता तो अब तक मैं निकाल लेता। मैं इस्तीफा (resignation) देना चाहता हूं। एडिसन ने कहा ” मुझे पता है कि हर समस्या जो ईश्वर (bhagwan) ने हमें दी है उन सब का हल उसके पास है।

हम भले ही उन्हें निकालने में असमर्थ (fail) हों लेकिन एक ना एक दिन इसका कोई ना कोई उत्तर (answer) जरूर मिलेगा। वापस जाओ और कुछ समय मेहनत और करो”। (Thomas Alva Edison Biography)

4- एक बार किसी ने एडिसन से पूछा “आपको इतना ज्यादा ज्ञान (knowledge) कैसे हो गया”।
थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) का जवाब था “दूसरों से यह कहकर कि मैं कुछ नहीं जानता ( i dont know anything) और यही कि मैं जानना चाहता हूँ “

5- एक बार थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) की प्रयोगशाला में आग लग गई। कई जरूरी कागजात जलकर खाक (brun) हो गए। लगभग 15 से 20 लाख डॉलर के उपकरण (instruments) नष्ट हो गए। एडिशन का पुत्र यह सब दुख भरी निगाहों से देख रहा था।

एडिसन ने उसे कहा कि, “जाओ अपनी मां (mother) को भी बुला लाओ ऐसा दृश्य जीवन में कभी देखने (see) को नहीं मिलेगा”।

अगले दिन उसी की राख में घूमते हुए एडिसन (edison) ने कहा “नुकसान का भी फायदा होता है, हमारी भूले जलकर राख (ash) हो गई हैं। मैं इसके लिए ईश्वर को धन्यवाद (thanks) देना चाहता हूं अब हम नए सिरे से काम शुरू कर सकेंगे”। (Thomas Alva Edison Biography)

6- एक बार एडिशन बैटरी (battery) पर कुछ प्रयोग कर रहे थे। एक दिन एक पत्रकार उनसे मिलने आया। एडिसन ने उसे बताया कि वह 20000 प्रयोग कर चुके हैं, लेकिन फिर भी उन्हें सफलता (success) नहीं मिली। पत्रकार ने आश्चर्य से पूछा “इतने प्रयास (tries) विफल होने के बाद भी आप हिम्मत नहीं हारे”

“विफल!” एडिसन ने विस्मय से पूछा।

एडिसन ने कहा, “विफल (failure) कुछ भी नहीं हुआ है। मैंने वह 20000 आविष्कार किए जो हमारे काम के नहीं हैं। “

7- एडिसन अपने प्रयोगों (tests) मैं इस कदर विलीन रहते थे कि कभी-कभी सारी रात प्रयोगशाला (laboratory) में काम करते तथा रात में भोजन भी ना करते। एक बार सुबह नाश्ता (breakfast) करते हुए उन्हें अचानक झपकी आ गई तभी उनके नौकर (employee) को मजाक सूझी और उसने मेज पर खाली प्लेट रखकर भरी प्लेट हटा दी। जब एडिसन की नींद खुली (Wake up) तो उन्होंने मन ही मन यह निष्कर्ष निकाला कि मैने नाश्ता (breakfast) कर लिया है। इसके बाद वे पुनः काम में जुट गये।

8- एडीसन के दोस्त उनकी सिगार (cigar) मुफ्त में पी जाया करते थे। तंग आकर थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने नौकर को दुर्गंध युक्त शिकार बनाने का ऑर्डर (order) दे दिया। ताकि वह अपने दोस्तों को मुफ्त (free) की चीजें उड़ाने का मजा चखाना चाहते थे। कुछ दिनों बाद जब उन्हें नौकर (employee) मिला तो उन्होंने शिगार ना भेजे जाने की शिकायत (complaint) की और आग्रह किया कि शीघ्र ही वह शिगार भेज दें।

नौकर हैरान था “सर मैंने आज से 3 हफ्ते पहले ही शिकार के पैकेट (packets) भेज दिए थें”। वास्तव में अपने काम में व्यस्त एडिसन (edison) सारे रद्दी सिगार पी चुके थे। इससे स्पष्ट होता है कि एडिसन (edison) इस कदर अपने प्रयोग में व्यस्त रहते थे कि उन्हें किसी भी चीज का ध्यान ही ना रहता। (Thomas Alva Edison Biography)

थॉमस एल्वा एडिसन की एक प्रेरणादायक कहानी | Motivational Story of Thomas Alva Edison

थॉमस एल्वा एडिसन प्राइमरी स्कूल (primary school) में पढते थे. एक दिन स्कूल से घर आये और माँ को एक कागज (give paper to mother) देकर कहा, टीचर ने दिया है.

उस कागज को पढ़कर माँ की आँखों (tears in eyes) में आंसू आ गए. एडिसन ने पूछा क्या लिखा है? आंसू पोंछकर माँ ने कहा- इसमें लिखा (written) है-

“आपका बच्चा (genius child) जीनियस है. हमारा स्कूल छोटे स्तर (lower level) का है और शिक्षक बहुत प्रशिक्षित (no professional teachers) नहीं हैं, इसे आप स्वयं शिक्षा दें.” (Thomas Alva Edison Biography)

कई वर्षों (mother died after some years) बाद माँ गुजर गई.

तब तक एडिसन प्रसिद्ध वैज्ञानिक (famous scientist) बन चुके थे.

एक दिन एडिसन को अलमारी (corner of Almira) के कोने में एक कागज का टुकड़ा (piece of paper) मिला, उन्होंने उत्सुकतावश (excitement) उसे खोलकर पढा, ये वही कागज (paper) था, जो टीचर (teacher) ने दिया था जिसमें लिखा था-
*”आपका बच्चा बौद्धिक तौर (weak from brain) पर कमजोर है, उसे स्कूल (school) न भेजें.”*

एडिसन घंटो (Edison cries) रोते रहे….

फिर अपनी डायरी (diary) में लिखा-
✍ ” एक *महान माँ* ने बौद्धिक तौर पर कमजोर बच्चे को सदी का महान (great scientist) वैज्ञानिक बना दिया.”

*यही सकारात्मकता (positive parents) माता-पिता की शक्ति है*

Albert Einstein Biography In Hindi

American President Donald Trump Biography and Quotes in Hindi

(Thomas Alva Edison Biography)

111 Short Inspirational Quotes in Hindi  | 111 प्रेरणादायक कोट्स